सोमवार, दिसंबर 14

कोई नानक ध्यान लगाता

 कोई नानक ध्यान लगाता 

हम भीतर से अनभिज्ञ सदा 
बस बाहर-बाहर जीते हैं, 
अंतर पटल उलझने देते 
तन हित पट रेशम सीते हैं !

जब बाहर थे अम्बार लगे 
अतुलित दौलत धन वैभव के, 
भीतर कुछ घटता जाता था 
जिसको ना इसमें सार लगे !

जब इर्द-गिर्द सीमाएं रच 
रिश्तों को उनमें कैद किया, 
कुछ टूट गया था भीतर भी 
जब जीवन पर सन्देह किया !

उर डरा कभी सिर भी थामा
तन ने कितने सन्देश दिए, 
मुस्कान कहाँ वह भीतर की 
ऊपर-ऊपर लब  हँसा किये !

मस्तिष्क के तंतु रोते हैं 
धड़कन दिल की जब बढ़ जाये, 
कम्पन अंगों में होता है
हम लेकिन देख कहाँ पाए !

भीतर की रग-रग से वाकिफ 
कोई नानक ध्यान लगाता, 
इक-इक रेशे को पोषित कर 
बाहर भी सुख-चैन लुटाता ! 

 

6 टिप्‍पणियां:

  1. हर किसी में नानक कहाँ।
    अगर अंदरू जान लें तो वास्तविक सुख का अनुभव हो जाये।
    बहुत गहरी और सार्थक रचना।

    नई रचना- समानता

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सही कह रहे हैं आप, पर नानक को प्रेम करने का अर्थ है उसके चरणचिह्न पर चलना

      हटाएं
  2. बहुत ही बढ़िया। सभी को गुरुनानक के सेवा भाव और उनकी शिक्षाओं को जीवन में उतारने का प्रयास करना चाहिए।

    जवाब देंहटाएं