गुरुवार, सितंबर 16

विश्वकर्मा पूजा

विश्वकर्मा पूजा

पूर्णता से उपजी पूजा, पावन इस जैसा ना दूजा
विश्वकर्मा सृष्टि रचेता, कण-कण में बसा प्रणेता

सितम्बर के चरण पड़ते ही
शुरू हो जाती है हलचल
पहले-पहल धीरे से फिर
जोरों से मचती है खलबल
यूँ तो हर बरस की है यही कहानी
पर लगे नित नयी सदा सुहानी!

मूर्ति कौन लाएगा ?
थाल पूजा का कौन सजायेगा ?
फूलों-हारों का जिम्मा कौन उठाएगा ?
से लेकर भोजन की तैयारी,
करते सभी बारी-बारी

सजी फिर बंदनवार
लगायी सबने पुकार
उपकरणों की करना, हे देव !
वर्ष भर सार-संभार

लगा, मूर्ति मुस्कायी
पुजारी की आँख भर आयी
झुक गया हृदय
मस्तक के साथ
गुपचुप हो गयी बात

उत्सव, उसको भी तो भाए
जैसे हम, वह भी तो
वर्ष भर रहे आस लगाये
कब मुझ तक आयेगा मानव
मोद भरा तृप्त हुआ झूमे गायेगा !


पूजा पावन अमृत घट सी, पूजा पावन कल्प वट सी
पूजा प्रेम का दूजा नाम, प्रेम ही पूजा का पैगाम !

अनिता निहालानी
१६ सितम्बर २०१०

9 टिप्‍पणियां:

  1. आप की रचना 17 सितम्बर, शुक्रवार के चर्चा मंच के लिए ली जा रही है, कृप्या नीचे दिए लिंक पर आ कर अपनी टिप्पणियाँ और सुझाव देकर हमें अनुगृहीत करें.
    http://charchamanch.blogspot.com


    आभार

    अनामिका

    उत्तर देंहटाएं
  2. 17 september ke uplakshya me achhi prayas hain.

    Visit : http://biharicomment.blogspot.com
    Thnx

    उत्तर देंहटाएं
  3. देव शिल्पी भगवान विश्वकर्मा को शत शत नमन| बहुत सुन्दर कविता|
    ब्रह्माण्ड

    उत्तर देंहटाएं
  4. विश्वकर्मा पूजा का महत्व बताती बहुत ही सुन्दर कविता। आभार! -: VISIT MY BLOG :- जिसको तुम अपना कहते हो...........कविता को पढ़कर अपने अमूल्य विचार व्यक्त करने के लिए आप सादर आमंत्रित है। आप इस लिँक पर क्लिक कर सकती हैँ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. ्विश्वकर्मा भगवान को नमन करते हुवे आपको विषय प्रधान कविता के लिये बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  6. आप सभी का धन्यवाद एवं हृदय से आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  7. ager aapke pas aur bhi shree Vishwakarma g se
    sambandhit kavita hai or ager aap use janhit me print karna chahe ho sampark kare : anilsharmabsw@gmail.com
    thanks

    उत्तर देंहटाएं