सोमवार, मई 30

इस वर्ष


यह तो होना ही था....

तेज उमस भरी गर्मी  
बरसा नहीं था बादल कुछ दिनों से
पर आज सुबह
रिमझिम ने जगाया नींद से
सहला गयी शीतल पवन
दे गयी कोई संदेशा
बेला, मालती की सुवास
अजाने लोक का
कोई कह गया कान में चले आओ
मंदिर की बढ़ गए कदम
 खुदबखुद अल सुबह  
खुलने लगे कपाट जिसके
और... झरने लगी प्रार्थनाएं
किसी गहरे मानस से
प्रार्थनाएँ... जो खुद के लिये नहीं थीं
सर्वे भवन्तु सुखिनः....
अचानक मधुर हो गया पोर-पोर
यह क्या हो रहा था
शुभकामनाएँ दे रहे थे पंछी और
पहचान के वे लोग भी
जिनसे उम्मीद नहीं थी...
अपने आप हाथ उठ गए
सेवइयों की ओर
और तैयार हो गयी मीठी खीर...
दनादन कोई बदलवा गया
सारे कुशन कवर... मेजपोश...
जाने कौन पाहुना आ जाये
यह सब हुआ
 अभी तो दिन का पहला पहर है
आगे-आगे देखिये होता है क्या....
क्योंकि मैंने इस वर्ष  
हवा की छुवन.. और जग की सौगातों को
ईश्वर का उपहार माना है
प्यार, हँसी और हर शुभ को त्योहार माना है...
अब तो आप समझ ही गए होंगे कि
आज मेरा....

अनिता निहलानी
३० मई २०११    






11 टिप्‍पणियां:

  1. प्यार, हँसी और हर शुभ को त्योहार माना है...
    अब तो आप समझ ही गए होंगे कि
    आज मेरा....

    शायद आज आपका जन्मदिन है ...बहुत बहुत शुभकामनाएं और बधाई.

    कविता बहुत बहुत अच्छी लगी.

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. आगे-आगे देखिये होता है क्या....
    क्योंकि मैंने इस वर्ष
    हवा की छुवन.. और जग की सौगातों को
    ईश्वर का उपहार माना है
    प्यार, हँसी और हर शुभ को त्योहार माना है.
    bahut sundar v bhavpoorn abhivyakti.badhai.

    उत्तर देंहटाएं
  3. लगता है आज आपका जन्मदिन है ... बहुत बहुत शुभकामनायें ...

    सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  4. अब तो आप समझ ही गए होंगे कि
    आज मेरा....जन्मदिन है
    हार्दिक बधाई और शुभकामनायें…………आपका जीवन इसी तरह महकता रहे।

    उत्तर देंहटाएं
  5. यशवंतजी, संगीताजी, शालिनीजी, वन्दनाजी और मनोजजी,आप सभी का बहुत बहुत आभार इस खुशी में शामिल होने के लिये!

    उत्तर देंहटाएं
  6. ओहो .....तो आज आपका जन्मदिन है......ढेर सारी शुभकामनायें आपको....खुदा आपको लम्बी और खुशनुमा उम्र अता फरमाए.....आमीन |

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति..जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें...कामना है कि आपका जीवन इसी तरह महकता रहे..

    उत्तर देंहटाएं
  8. अब तो आप समझ ही गए होंगे कि
    बहुत खूब... क्या अंदाज है...
    बहुत-बहुत बधाई....

    उत्तर देंहटाएं
  9. लंबी उम्र तक ये लिखने का सिलसिला अनवरत चलता रहे. जन्म दिन को ढेरों ढेर बधाइयाँ. लेकिन कविता और कविता में जज्वात भी एक दम अदभुत. शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  10. अनीता जी आपकी इस ख़ुशी में मैं भी शामिल हूँ ..!!जन्मदिन की ढेरों शुभकामनायें ...!!कुछ व्यस्तता के कारन आपका ब्लॉग नहीं खोल पाई थी देर के लिए क्षमा करें ..!!जान कर हर्ष हुआ की आप भी मई में ही इस पृथ्वी पर आयीं हैं ...!!
    aapka adbhut lekhan ek alag hi anubhuti deta hai ..!!bhadvan kare ye bhav sada badhate hi rahen..!!

    उत्तर देंहटाएं