मंगलवार, मई 10

सफर अब भी वह जारी है


सफर अब भी वह जारी है

अगर दिल में मुहब्बत हो जहाँ जन्नत की क्यारी है
सुकूं तारी सदा रहता यह ऐसी बेकरारी है I

तेरी नजरों से जब देखा यह दुनिया भा गयी मुझको
तेरे पीछे चले थे हम सफर अब भी वह जारी है I

मेरे दिल का हर इक कोना भरा है तेरी यादों से
जहाँ न साथ तेरा हो ऐसा इक पल भी भारी है I

जमाने की निगाहों से सदा जिसने बचाया है
गमों की धूप में वह नीम सी छाँव प्यारी है I

हजारों ढंग सिखलाये तेरी चाहत ने जीने के
सलीका जिंदगी का देख हमसे मौत हारी है I

अनिता निहालानी
१० मई २०११  

11 टिप्‍पणियां:

  1. "मेरे दिल का हर इक कोना भरा है तेरी यादों से
    जहाँ न साथ तेरा हो ऐसा इक पल भी भारी है I"

    क्या बात कही आपने.बहुत अच्छी लगीं यह पंक्तियाँ.

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह!! बहुत उम्दा...आनन्द आ गया.

    उत्तर देंहटाएं
  3. हजारों ढंग सिखलाये तेरी चाहत ने जीने के
    सलीका जिंदगी का देख हमसे मौत हारी है

    दिल से लिखी हुई रचना सीधे दिल में उतरती है। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  4. जमाने की निगाहों से सदा जिसने बचाया है
    गमों की धूप में वह नीम सी छाँव प्यारी है I
    सुंदर अहसासों की कोमल अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  5. bahut hi sunder rachna ..
    Anita ji -aapke vichar aur vicharon ki abhivyakti dono hi lajawab hain ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. जमाने की निगाहों से सदा जिसने बचाया है
    गमों की धूप में वह नीम सी छाँव प्यारी है I

    हजारों ढंग सिखलाये तेरी चाहत ने जीने के
    सलीका जिंदगी का देख हमसे मौत हारी है I

    बहुत सुंदर अनीता जी बेहद खूबसूरत एहसास. जब तक साँसे बाकी है, सफर भी बाकी है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बढिया प्रस्तुति ...........धन्यवाद जी

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत गहरे भाव भर दिए आपने इन चंद शब्दों में ...आपका आभार

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ख़ूब हर शेर उम्दा.......शानदार |

    उत्तर देंहटाएं
  10. मन को छूती है आपकी हर रचना ..आभार

    उत्तर देंहटाएं