मंगलवार, मई 1

अर्थवान हों शब्द हमारे



अर्थवान हों शब्द हमारे

शब्दों का संसार सजाया
मन जिसमें डूबा उतराया,
पहुँचा कहीं न लोटपोट कर
वैसे का वैसा घर आया !

शब्दों की लोरी बन सकती
तंद्रा भीतर जो भर देती,
नहीं जागरण संभव उससे
नींद को वह गहरा कर देती !

शब्दों को तलवार बनाया
इनको ही तो ढाल बनाया,
मोती कुछ लेकर आयेंगे
शब्दों का इक जाल बनाया !

शब्द अकेले क्या कर सकते
यदि  न अर्थ उनमें भर सकते,
अर्थ बिना न कोई कीमत
शब्द नहीं पीड़ा हर सकते !

अर्थ वही जो अनुभव देता
प्रामाणिक जीवन कर देता,
परिवर्तन कर अणु-अणु का
भावमय अंतर कर देता !

17 टिप्‍पणियां:

  1. शब्दों से ज्यादा भाव की अहमियत है इसमें कोई शक नहीं ....
    सुंदर भावाभिव्यक्ति ....
    शुभकामनायें ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. शब्दों का संसार सजाया
    मन जिसमें डूबा उतराया,
    पहुँचा कहीं न लोटपोट कर
    वैसे का वैसा घर आया !शब्दों की अनवरत सफ़र.......

    उत्तर देंहटाएं
  3. शब्दों की महिमा अनन्त है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. शब्दों को तलवार बनाया
    इनको ही तो ढाल बनाया,
    मोती कुछ लेकर आयेंगे
    शब्दों का इक जाल बनाया !

    शब्द अकेले क्या कर सकते
    यदि अर्थ न उनमें भर सकते,
    अर्थ बिना न कोई कीमत
    शब्द नहीं पीड़ा हर सकते !

    जब बोलो तो मीठा बोलो
    बिना वजह तुम मुख न खोलो....!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. शब्द अकेले क्या कर सकते
    यदि अर्थ न उनमें भर सकते,
    अर्थ बिना न कोई कीमत
    शब्द नहीं पीड़ा हर सकते !

    शब्द शब्द अर्थ ढूंढते हुये .... सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  6. सत्य है शब्दों का एक जाल है जिसमे फंस कर रह जाते हैं हम.....बहुत गहन और सुन्दर पोस्ट......हैट्स ऑफ इसके लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  7. अर्थ वही जो अनुभव देता
    प्रामाणिक जीवन कर देता,
    परिवर्तन कर अणु-अणु का
    भावमय अंतर कर देता !


    शब्दों को अर्थ का रूप ही अभिव्यक्ति सार्थक करता है.
    ऐसी ही सार्थक, सुन्दर अभिव्यक्ति!
    सादर
    मधुरेश

    उत्तर देंहटाएं
  8. शब्द अकेले क्या कर सकते
    यदि अर्थ न उनमें भर सकते,
    अर्थ बिना न कोई कीमत
    शब्द नहीं पीड़ा हर सकते !

    सच.....भावनाओं के बगैर शब्द तो केवल एक जाल हैं ......

    उत्तर देंहटाएं
  9. अति सुन्दर रचना..भला भाव और शब्द का अंतर आपसे बेहतर कौन जान सकता है..?

    उत्तर देंहटाएं
  10. भावमय करते शब्‍दों का संगम ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. अर्थ वही जो अनुभव देता
    प्रामाणिक जीवन कर देता,
    अर्थवान

    उत्तर देंहटाएं
  12. शब्दों की सार्थकता आप नहीं समझेंगी तो कौन समझेगा ,आप जो इतनी कुशलता से यह सब कह गईँ !

    उत्तर देंहटाएं
  13. शब्दों की ताकत तबी है जब वे अर्थमय हों ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. मुझे यह रचना बहुत प्रभावशाली लगी ...
    आशा है गीत लिखती रहेंगी !

    उत्तर देंहटाएं
  15. कल 11/05/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत ही सुन्दर रचना...
    शब्द में ही तो सारा संसार समाया है....

    उत्तर देंहटाएं