सोमवार, मई 7

रुकने से इंकार जो करे



रुकने से इंकार जो करे

जीवन की टेढ़ी राहों पर
अविरत रथ यूँ बढ़ता जाता,
रुकने से इंकार जो करे
 एक कारवां बनता जाता !

एक मुसाफिर सबके भीतर
एक तलाश सदा जारी है,
नई मंजिलें पा लेने की
एक ललक मन पर तारी है !

चलते नभ पर चाँद सितारे
घूमा करती निशदिन कुदरत,  
गतिमय नीर, अनल, अनिल भी
चलना ही श्वासों की फितरत !

दिव्य लोक का स्वप्न जगाएं
बाधाएं कितनी हों पथ पर,
चले यात्रा अंतर्मन की
सुस्ताएँ पल भर ही थक कर !

सत् की ओर चलें असत् से
अंधकार से जगे उजाला,
जीवन जब उत्सव बन महके  
लगे मृत्यु का रूप निराला !




6 टिप्‍पणियां:

  1. मन कर्मठता की ओर ले जाती सुंदर रचना .....बधाई अनीता जी ....

    उत्तर देंहटाएं
  2. चल चला चल............

    बहुत सुंदर....

    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक मुसाफिर सबके भीतर
    एक तलाश सदा जारी है,
    नई मंजिलें पा लेने की
    एक ललक मन पर तारी है !

    और बस जिंदगी इसी का नाम है.....!!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. पूनम जी, सच ही जिंदगी बस चलते रहने का नाम है.

      हटाएं