शनिवार, मई 12

सदगुरु के जन्मदिन पर


सदगुरु के जन्मदिन पर

पुलक भरी रेशे-रेशे में
रस में डूबा कण-कण मन का,
हल्का-हल्का सा हो आया
पल-पल छिन-छिन इस जीवन का !

एक मदिर कविता सी बहती
श्वासों की यह धारा अविरत,
एक मधुर रुनझुन सा बजता  
भावों का फौवारा अविरत !  

ठहर गया है काल यात्री
क्षण भर में अनंत समाया,
सँवर गया है मन दर्पण में
रूप अनोखा उसको भाया !

तेरा ही प्रसाद है अनुपम
तेरी दया का आंचल है यह,
बरस रहा है अहर्निश जो
तेरी कृपा का बादल है यह !

रेशम से दिन पहर हुए हैं
मखमल चाँद सी रातें मधुरिम,
एक मौन ऐसा पाया है
एक रौशनी मद्धिम-मद्धिम !

जन्मदिवस पर तेरे गाते
उस अनंत तक हम हो आते,
जिसमें तू रहता है पलपल
उस सागर को हम छू आते !

अनिता निहालानी
१३ मई २०१२

5 टिप्‍पणियां:

  1. ओह भाव विभोर कर रही है रचना आपकी ......!!
    कितनी खुशकिस्मत हूँ मैं ...१३ मई को मैंने भी अपनी आँखें खोली थीं ....!!
    गुरुदेव के जन्मदिन की आपको बधाई ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत भक्तिमय प्रस्तुति...सद्गुरु को नमन

    उत्तर देंहटाएं
  3. श्री श्री जी की कृपा बनी रहे....

    सुंदर कविता....

    सादर.
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुंदर कविता....

    महतारी दिवस की बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  5. जन्मदिवस पर तेरे गाते
    उस अनंत तक हम हो आते,
    जिसमें तू रहता है पलपल
    उस सागर को हम छू आते !

    श्री श्री जी के जन्म दिवस सुंदर कविता से उन्हें बधाइयाँ दी आपने. उन्हें शत शत नमन.

    उत्तर देंहटाएं