रविवार, जनवरी 11

उसने कहा था

उसने कहा था


जानते हो
 क्यों भला-भला लगता है ?
निरभ्र..विस्तीर्ण गगन
निस्सीम, निस्तब्धता छू जाती है
अंतर आकाश को
जैसे कोई दो बिछुड़े मित्र मिलकर
प्रसन्न हो जाएँ !

गंगा की लहरों से खेलना
युगों से लुभाता रहा है क्यों हमें ?
सागर की उत्ताल लहरों का स्पर्श
कर जाता है रोमांचित
क्योंकि नाच उठता है
भीतर का जल तत्व उसके साथ
उन पलों में होकर एकाकार !

अग्नितत्व भी हो जाता है तरंगित
निहार उठती हुई लपटों को
थिरक उठते हैं कदम तभी
होलिकादहन और लोहरी के उत्सवों में !

हो जाता होगा तन्मय वायुतत्व भी
सहला जाता है जब हवा का झोंका हौले से
और.... भला-भला लगता है माटी का स्पर्श
क्यों कुम्हार को ?
किसान घंटो गुजारता है उसके अंग-संग
उनके भीतर की माटी भी लेती है कोई आकार
पंच तत्वों से बने मानव
उन्हीं से जुड़कर होते हैं
वास्तव में आनंदित, प्रफ्फुलित !


6 टिप्‍पणियां:

  1. सच में मानव पञ्च तत्वों से दूर कब रह पाता है. जीवन के बाद भी इन्ही पञ्च तत्व में विलीन हो जाता है..बहुत सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सत्य वचन ! स्वागत व आभार कैलाश जी !

      हटाएं
  2. वही प्रज्ञा का सत्य स्वरूप,हृदय में बनता प्रणय अपार,
    लोचनों में लावण्य अनूप लोक शेवा में शिव अविकार!

    उत्तर देंहटाएं
  3. अति सुंदर ! वही सत्यं शिवं सुन्दरं है....स्बागत व आभार प्रतिभा जी !

    उत्तर देंहटाएं
  4. स्वागत व आभार ओंकार जी...

    उत्तर देंहटाएं