गुरुवार, जून 24

समाधि

समाधि

मन के पीछे.. पीछे.. पीछे..
चलो वहाँ पर ऑंखें मींचे
जहाँ विचार न कोई उठता
भाव भी कोई नहीं उमड़ता I

जहाँ प्रकाश का फूल खिला है
सुर का भीना स्रोत मिला है
उस गह्वर में पल भर रुकना
वहीं अगोचर का हो लखना I

उठती वहीं से 'मैं' की तान
गति पाते हैं पांचों प्राण
वहीं से डलता जाल जगत में
न चाहो तो समेटो पल में I

उस ही का विस्तार हुआ है
भाव और विचार हुआ है
वही चाह न चाह कर फंसता
वही मुक्त हृदय से हँसता I

लीला रचता निज शक्ति से
खो जाता विमुख भक्ति से
कोई आकर याद दिलाता
खुद को फिर खुद में पा जाता I

पुलक वही आँखों में अश्रु
धनक वही पावों में घुंघरू
गीत वही कंठों में सरगम
प्रिय वही अंतर में प्रियतम I

अनिता निहालानी
२३ जून १०१०

2 टिप्‍पणियां: