शुक्रवार, दिसंबर 9

सारा जग अपना लगता है


सारा जग अपना लगता है

लगन लगा दे सबको अपनी
प्रियतम निज रंग में बोड़ दे,
भीतर जो भी टूट गया था
निज प्रेम से उसे जोड़ दे !

जो कलुष कटुता भर ली थी
तेरे नाम की धारा धो दे,
जो अभाव भी भीतर काटे
अनुपम धन भर उसको खो दे !

अस्तित्त्व की कृपा हो अनुपम
तृप्ति से भर जाता हो मन,
अथक हुए पग बढ़ते जायें
सोने सा चमके यह जीवन !

सुख आये या दुःख, प्रसाद हो
तुमसे ही आता है, प्रिय हो,
तू अपने ही निकट ला रहा
जो भी तुझको भाए, प्रिय हो !

छोड़ दिये हैं राग-विराग
सारा जग अपना लगता है,
भीतर से चट्टान उठ गयी
एक खजाना भी दिखता है !

जहाँ प्रेम है वहाँ है तू ही
कैसा भेद कहाँ अलगाव,
पुलक जगे जो तृण-तृण में
हो चहुँ ओर तेरा ही भाव !

प्रेम का पाठ पढ़ाते हो तुम
सारे जग को प्रिय बनाते,
सबके भीतर तुम ही बैठे
कर बहाने पास हो लाते !

     

13 टिप्‍पणियां:

  1. जहाँ प्रेम है वहाँ है तू ही
    कैसा भेद कहाँ अलगाव,
    पुलक जगे जो तृण-तृण में
    हो चहुँ ओर तेरा ही भाव !
    bahut sundar bhavon se yukt kavita .aabhar

    उत्तर देंहटाएं
  2. मुझमे क्या मोरा.........बहुत सुन्दर |

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रेम का पाठ पढ़ाते हो तुम
    सारे जग को प्रिय बनाते,
    सबके भीतर तुम ही बैठे
    कर बहाने पास हो लाते !दिल को छू हर एक पंक्ति.... हर बार की तरह.....

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खूबसूरत प्रस्तुति |
    बधाई स्वीकारें ||

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुख आये या दुःख, प्रसाद हो
    तुमसे ही आता है, प्रिय हो,
    तू अपने ही निकट ला रहा
    जो भी तुझको भाए, प्रिय हो !

    प्रेम के रस में पगी एक सुंदर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी किसी पोस्ट की चर्चा है नयी पुरानी हलचल पर कल शनिवार 10-12-11. को । कृपया अवश्य पधारें और अपने अमूल्य विचार ज़रूर दें ..!!आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  7. प्रेम और प्रियतम के माध्यम से बहुत गहरी अभिव्यक्ति.

    सुंदर प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  8. आप सभी सुधी सहयात्रियों का हृदय से आभार!

    उत्तर देंहटाएं