गुरुवार, दिसंबर 22

वही तो हमराज है


वही तो हमराज है


राज करना इस जहाँ पर, कायरों का काम है
दिल पे अपने राज कर ले, वह बना सरताज है

सो रहे हम क्यों तिमिर में, जग गया वह सूर्य बन
राह रोशन कर गया जो, वही तो हमराज है

एक छोटा सा जहाँ, गढ़ लिया निज वास्ते
‘मैं’ सलामत यह रहे, ‘तू’ से न हमको काज है

हो थोड़ी पहचान यहाँ, जग मुझको मुड़कर देखे
रात दिन बस बज रहा यूँ, जिंदगी का साज है

8 टिप्‍पणियां:

  1. सो रहे हम क्यों तिमिर में, जग गया वह सूर्य बन
    राह रोशन कर गया जो, वही तो हमराज है
    ...waah

    उत्तर देंहटाएं
  2. दिल पे अपने राज कर ले, वह बना सरताज है

    सटीक कहा है ..सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुभानाल्लाह हर शेर उम्दा और मुकम्मल...........दाद कबूल करें|

    उत्तर देंहटाएं
  4. हो थोड़ी पहचान यहाँ, जग मुझको मुड़कर देखे
    रात दिन बस बज रहा यूँ, जिंदगी का साज है
    बहुत ख़ूबसूरत प्रस्तुति... आभार

    उत्तर देंहटाएं