मंगलवार, जनवरी 24

जाने कौन सिवाय तेरे


जाने कौन सिवाय तेरे

तेरी धरा नीर भी तेरा
तेरी अगन पवन भी तेरा,
तेरे ही आकाश के नीचे
सकल रूप डाले हैं डेरा !

देह भी तेरी मन भी तेरा
श्वासें तेरी चिंतन तेरा,
तेरी ही प्रज्ञा के कारण
कैसा जगमग हुआ सवेरा !

तू ही चला रहा सृष्टि को
जाने कौन सिवाय तेरे,
एक बीज में छिपा सकल वन
एक शब्द से सबको टेरे !

यही एक राज  पाना है
होना क्या फिर खो जाना है,
तू ही है अब तू ही तो था
तुझको ही बस रह जाना है !

एक झलक जो तेरी पाए
तेरा दीवाना हो जाये,
गा गा कर फिर तेरी गाथा
मस्त हुआ सा दिल बहलाए !  





13 टिप्‍पणियां:

  1. बेहतरीन अभिव्‍यक्ति
    कल 25/01/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्‍वागत है, ।। वक्‍़त इनका क़ायल है ... ।।

    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. तू ही तू है जहाँ भी नज़र जाये..........बहुत शानदार है पोस्ट|

    उत्तर देंहटाएं
  3. देह भी तेरी मन भी तेरा
    श्वासें तेरी चिंतन तेरा,
    तेरी ही प्रज्ञा के कारण
    कैसा जगमग हुआ सवेरा !... मन प्रमुदित हुआ

    उत्तर देंहटाएं
  4. यही एक राज पाना है
    होना क्या फिर खो जाना है,
    तू ही है अब तू ही तो था
    तुझको ही बस रह जाना है !

    ....यही एक आकांक्षा है...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  5. bahut hi achchi, spiritual aur inspirational kavita, dhanyavaad!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेहद खूबसूरत तरीके से ईश्वर के प्रति ...भावना को समझा दिया .....आभार

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर....
    एक बीज में छिपा सकल वन
    एक शब्द से सबको टेरे !

    बहुत खूब...

    उत्तर देंहटाएं
  8. तेरा नीर गगन भी तेरा
    तेरी अगन पवन भी तेरा,
    मैं भी तेरी और तू भी तेरा.........
    बेहतरीन अप्रतिम रचना........
    सादर,
    यशोदा

    उत्तर देंहटाएं