मंगलवार, जनवरी 10

देखते ही देखते



देखते ही देखते


देखते ही देखते उम्र सारी ढल गयी
जिंदगी की डोर यूँ हाथ से फिसल गयी

कुछ कहाँ हो सका आह बस निकल गयी
क्रांति की हर योजना बार-बार टल गयी

हर किसी मोड़ पर कमी कोई खल गयी
दर्द आग बन उठा श्वास हर पिघल गयी

जो दिखा छली बली चाल जिसकी चल गयी
भ्रमित हो गया जगत दाल उसकी गल गयी

मर के भी वह न मरा मौत भी विफल गयी
रूह जिन्दा रहे यह बात सच निकल गयी  

11 टिप्‍पणियां:

  1. हर किसी मोड़ पर कमी कोई खल गयी
    दर्द आग बन उठा श्वास हर पिघल गयी

    gahan bhav ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. हर किसी मोड़ पर कमी कोई खल गयी
    दर्द आग बन उठा श्वास हर पिघल गयी...waah

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही सुन्दर... कुछ अलग सी रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह वाह अनीता जी..

    मर के भी वह न मरा मौत भी विफल गयी
    रूह जिन्दा रहे यह बात सच निकल गयी

    बहुत खूब............

    उत्तर देंहटाएं
  5. देखते ही देखते उम्र सारी ढल गयी
    जिंदगी की डोर यूँ हाथ से फिसल गयी

    कुछ कहाँ हो सका आह बस निकल गयी
    क्रांति की हर योजना बार-बार टल गयी
    सत्य कहती सुन्दर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  6. देखते ही देखते उम्र सारी ढल गयी
    जिंदगी की डोर यूँ हाथ से फिसल गयी

    कुछ कहाँ हो सका आह बस निकल गयी
    क्रांति की हर योजना बार-बार टल गयी

    बहुत खुबसूरत शेर हैं......वाह |

    उत्तर देंहटाएं
  7. सच ही कहा है लोगों ने समय से सब कर ही लेना चाहिए! और कुछ नहीं तो प्रभु भक्ति ही सही ... वरना कहना पड़ेगा
    देखते ही देखते उम्र सारी ढल गयी
    जिंदगी की डोर यूँ हाथ से फिसल गयी

    उत्तर देंहटाएं
  8. अनुपमा जी, रश्मि जी, वन्दना जी इमरान, विद्या जी, व संजय जी, आप सभी का स्वागत व आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  9. सुन्दर एवं सशक्त अभिव्यक्ति .

    उत्तर देंहटाएं
  10. देखते ही देखते उम्र सारी ढल गयी
    जिंदगी की डोर यूँ हाथ से फिसल गयी !

    जो दिखा छली बली चाल जिसकी चल गयी
    भ्रमित हो गया जगत दाल उसकी गल गयी !

    सही कहा आपने....
    बड़ी देर से पता चल पाता है कुछ बातों का...
    तब तक जिन्दगी कई मोड़ ले चुकी होती है...!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपकी लेखनी और भावनाओं की नि:शब्‍द करती अभिव्‍यक्ति को नमन .

    उत्तर देंहटाएं