शुक्रवार, जनवरी 6

जागा कोई, कौन सो गया



जागा कोई, कौन सो गया

ढूँढ रहा जो तृप्ति जग में
प्यास और भी तीव्र बढ़े, 
सूना-सूना सा जीवन वन
जब तक न उससे नयन  लड़े !

जब तक कुछ भीतर न पाया
बाहर का सब कुछ फीका है,
मौन उतर जाता जब भीतर
जग भी तब लगता नीका है !

वाणी खो गयी मौन प्रकटता
शब्द निशब्द में ले जाते हैं,
जग भी यह सीढ़ी बन जाता
उस असीम तक हम जाते हैं !

जो कहना था कह न पाया
कह-कह कर मन मौन हो गया
भीतर गूंजी धुन वंशी की
जागा कोई, कौन सो गया !

भीतर बाहर जो मौन है
वह मन लीन हुआ है धुन में,
डूब गया जो उस अनंत में
जागा है बस उस गुन-गुन में !  

6 टिप्‍पणियां:

  1. भीतर बाहर जो मौन है
    वह मन लीन हुआ है धुन में,
    डूब गया जो उस अनंत में
    जागा है बस उस गुन-गुन में !

    speechless.....amazing.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया प्रस्तुति,सुंदर भाव लिए बेहतरीन रचना......
    welcome to new post--जिन्दगीं--

    उत्तर देंहटाएं
  3. भीतर बाहर जो मौन है
    वह मन लीन हुआ है धुन में,
    अंतर्यात्रा की कथा ....

    उत्तर देंहटाएं
  4. इमरान, धीरेन्द्र जी, वर्मा जी, व सुषमा जी आप सभी का आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी कविता से दूर रहने से लगता है जैसे कुछ खो दिया हो ...पढ़ कर बहुत कुछ मिलाता है ....एक अपार आनंद सा ....!!

    उत्तर देंहटाएं