बुधवार, जनवरी 4

सुरभि अनोखी

सुरभि अनोखी

गूंजती हैं जब वेद ऋचाएँ कहीं
या हवा के कंधों पर उड़कर
आती हैं अजान की आवाजें..
ले आती हैं सुगन्धि उसकी...

आत्मा के नासापुट ढूँढते रहे हैं
जिस सुरभि को जन्मों–जन्मों से
माटी की देह का नहीं कुछ मोल जिसके बिना
माटी में मिल हो जाये माटी
इससे पूर्व सुरभि भरे भीतर
जो व्याप्त है कण-कण में
पर मन का धुँआ इतना घना है
कि वह गंध खो जाती है
नहीं पहुंचती आत्मा तक...

20 टिप्‍पणियां:

  1. मन का धुँआ इतना घना है
    कि वह गंध खो जाती है
    नहीं पहुंचती आत्मा तक...अक्षरसः सच

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेहद सुन्दर रूहानी अभिव्यक्ति आत्मा के संगीत सी .

    उत्तर देंहटाएं
  3. मन पर छाये धुंएं का सहज चित्रण .. सुगंधि की तलाश में भटकता है मन .

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह ...बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. वैचारिक ताजगी लिए हुए रचना विलक्षण है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत खुबसूरत रचना अभिवयक्ति.........

    उत्तर देंहटाएं
  7. मन पर पड़े घने धुंआ को हटाने पर ही आत्मा तक उसकी सुरभि आती है ..बहुत सुन्दर बात इतने सुन्दर ढंग से कह दिया आपने अनीता जी , कैसे मैं आभार व्यक्त करूँ..?

    उत्तर देंहटाएं
  8. aap kirachnaye kisi aur hi lok me pahucha deti hai....shukriya....achi rachna ke liye bdhai...

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर प्रस्तुति ....

    उत्तर देंहटाएं
  10. jis din ye man ka ghana kohra chat jaayega...sansaar swarg ho jaayega...bahut sundar rachna

    उत्तर देंहटाएं
  11. गूंजती हैं जब वेद ऋचाएँ कहीं
    या हवा के कंधों पर उड़कर
    आती हैं अजान की आवाजें..
    ले आती हैं सुगन्धि उसकी...

    aur sab taraf sugandh hi sugandh....

    उत्तर देंहटाएं
  12. आप सभी का तहे दिल से शुक्रिया !

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाह! अद्भुत रचना....
    सादर बधाई...

    उत्तर देंहटाएं