सोमवार, जुलाई 23

पल में लय को न साधा तो


पल में लय को न साधा तो


वर्तमान है सत्य अनोखा
सूक्ष्म अति मृदु कोमल रेखा,
इसी घड़ी में शुभ घटता है
इस पल में अनंत को देखा !

मृत्यु भी इक पल में घटती
इक क्षण में ही जन्म हुआ,
सजग हुआ जो ठहरे इसमें
अद्भुत उसको दर्श मिला !

लहरें पल-पल तट पर आतीं
चूक हुई तो लौट गयी वें,
पल में लय को न साधा तो
टूट गयी धुन हुए बेसुरे !

हल क्षण घटता है कितना कुछ
पल-पल तन मन नया हो रहा,
कहीं उग रहे पुष्प हजारों
कहीं पे पतझड़ जवां हो रहा !

पल की शक्ति कैसी अद्भुत
पल में है संदेश पहुंचता,
दिल से दिल की बात हुई है
इक पल में क्या कुछ न होता !


10 टिप्‍पणियां:

  1. मृत्यु भी इक पल में घटती

    इक क्षण में ही जन्म हुआ,

    सजग हुआ जो ठहरे इसमें

    अद्भुत उसको दर्श मिला !

    पल में ही बहुत कुछ घटित हो जाता है ॥सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  2. जी सच है, बड़ी शक्ति है इस एक पल में, एक पल में ना जाने क्या-क्या घट जाता है... सारगर्भित रचना... आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. सच कहा हर पल कुछ न कुछ घटित होता रहता है..सुन्दर ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रत्येक पंक्ति सत्य और सुन्दर।

    उत्तर देंहटाएं
  5. pal to bahut hi mahtvapurn hai jivan me jise ham yadon me bhi sahej kar rakhte hai .............bahut sundar

    उत्तर देंहटाएं
  6. Waah Anita Ma'am, maan gaye...ik-ik pal k mahtava ko koi aapke sabdo se jaane.

    उत्तर देंहटाएं
  7. पल पल की महत्ता दर्शाती हुई उत्कृष्ट रचना ...
    सच में हर पल महत्वपूर्ण है ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. सार्थक बात कही है आपने .आभार

    उत्तर देंहटाएं
  9. संगीता जी, संध्या जी, इमरान, माहेश्वरी जी, संध्या तिवारी जी, शिवनाथ जी, शिखा जी, रिशव जी, आप सभी का बहुत बहुत स्वागत व आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  10. इसी घड़ी में शुभ घटता है
    इस पल में अनंत को देखा.....बहुत खूब
    शायद यही तो जीवन की सबसे बड़ी खूबसूरती है

    उत्तर देंहटाएं