बुधवार, जुलाई 4

अब राज छिपा कब तक रखे


अब राज छिपा कब तक रखे


कब अपना घूंघट खोलेगा
कब हमसे भी तू बोलेगा,
राधा का तू मीरा का भी
कब अपने सँग भी डोलेगा !

अब राज छिपा कब तक रखे
क्यों रस तेरा मन न चखे,
जब तू ही तू ही सभी जगह
इन नयनों को क्यों न दीखे !

अब और नहीं धीरज बंधता
मुँह मोड़ के क्यों है तू हँसता,
अब बहुत हुआ लुकना-छिपना  
तुझ बिन ना अब यह दिल रमता !

जो तू है, सो मैं हूँ, सच है
पर मुझको अपनी खबर कहाँ,
अब तू ही तू दिखता हर सूं
जाती है अपनी नजर जहाँ !

यह कैसा खेल चला आता
तू झलक दिखा छुप जाता है,
पलकों में बंद करूं कैसे
रह-रह कर बस छल जाता है !

14 टिप्‍पणियां:

  1. जो तू है, सो मैं हूँ, सच है
    पर मुझको अपनी खबर कहाँ,

    बहुत ही सुन्दर है कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  2. जो तू है, सो मैं हूँ, सच है
    पर मुझको अपनी खबर कहाँ,
    अब तू ही तू दिखता हर सूं
    जाती है अपनी नजर जहाँ !

    ....बहुत सुन्दर भक्तिमय प्रस्तुति...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. राज कभी छुप सकते हैं क्या.. रह-रह कर अपनी झलक दिखला ही जाता है..

    उत्तर देंहटाएं
  4. जो तू है, सो मैं हूँ, सच है
    पर मुझको अपनी खबर कहाँ,
    अब तू ही तू दिखता हर सूं
    जाती है अपनी नजर जहाँ !....सच कहा..बहुत खुबसूरत भक्तिमय प्रस्तुति...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  5. कब अपना घूंघट खोलेगा
    कब हमसे भी तू बोलेगा,
    राधा का तू मीरा का भी
    कब अपने सँग भी डोलेगा !
    निराली प्रीत में रंगी सुन्दर रचना ... आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  6. जब तू ही तू ही सभी जगह
    इन नयनों को क्यों न दीखे !
    waah bahut sundar abhivyakti ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत कुछ छिपा है इस सुन्दर सी रचना में ............

    उत्तर देंहटाएं
  8. मेरी टिप्पणी कहाँ गयी ? स्पैम देखिएगा

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. संगीता जी, स्पैम में भी नहीं मिली आपकी टिप्पणी..आभार !

      हटाएं
  9. मन में चाह हो और लगन सच्ची हो तो वह कब तक छुपेगा। मिल्न तो होना है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर प्यारी रचना...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  11. जो तू है, सो मैं हूँ, सच है
    पर मुझको अपनी खबर कहाँ,
    अब तू ही तू दिखता हर सूं
    जाती है अपनी नजर जहाँ...
    आपकी भक्तिभाव लिए बहुत ही प्यारी कविता! आप यूँ ही लिखती रहें, शुभकामना!
    साभार
    सारिका मुकेश
    ब्लॉग: http://sarikamukesh.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  12. इमरान जी, कैलाश जी, अमृता जी, माहेश्वरी जी, संध्या जी, सारिका मुकेश जी, उपासना ज,मनोज जी, रीना जी, अनुपमा जी,संध्या तिवारी जी आप सभी का तहे दिल से शुक्रिया...

    उत्तर देंहटाएं