सोमवार, अक्तूबर 11

कहानी एक दिन की

कहानी एक दिन की

दिनकर का हाथ बढ़ा
उजियारा दिवस चढ़ा
अंतर में हुलस उठी
दिल पर ज्यों फूल कढ़ा !

अपराह्न की बेला
किरणों का शुभ मेला
पढ़कर घर लौट रहे
बच्चों का है रेला !

सुरमई यह शाम है
तुम्हरे ही नाम है
अधरों पर गीत सजा
दूजा क्या काम है !

बिखरी है चाँदनी
गूंजे है रागिनी
पलकों में बीत रही
अद्भुत यह यामिनी !


अनिता निहालानी
११ अक्तूबर २०१०

2 टिप्‍पणियां:

  1. पलकों में बीत रही
    अद्भुत यह यामिनी !
    बहुत खूब ... प्रकृति को जीवंत कर दिया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह..!
    ..कितना मुश्किल है एक प्यारा गीत लिखना और कितना आसान है हंसते हुए उसे गुनगुना देना।

    उत्तर देंहटाएं