शुक्रवार, अक्तूबर 1

तू

तू

बिखरा है बन कर उजास
मिलता है तू श्वास-श्वास
कहाँ समेटूँ कहाँ समोऊँ
पूछ रहा मन ले उच्छ्वास !

पलकों में मुस्कान छिपी
अश्रु रस्ता भूल गए हैं
अधरों पर नित गीत सजे
पुष्प प्रीत के झूल गए हैं I

मौसम मस्त हुआ मन भाए
फागुन जीवन से न जाये
थिरके कदम चाल बहकी सी
नाम खुमारी जब चढ़ जाये I

पोर-पोर में गंध उठ रही
कोर-कोर में सुलगे अग्नि
रह-रह कर भीतर वंशी धुन
पंछी स्वर वीणI सुर ध्वनि I

लूट मची है ले लो राम
जग में न कोई दूजा काम
सत्य का दामन थामा जिसने
मिलता उसको ही विश्राम I

सुख सरिता में डूब रहा मन
भीतर उग आये हैं उपवन
कितना सुंदर क्रम जीवन का
नेह पगा है मन का कण कण I

अनिता निहालानी
१ अक्तूबर २०१०

2 टिप्‍पणियां:

  1. पलकों में मुस्कान छिपी
    अश्रु रस्ता भूल गए हैं
    sundar atisndar badhai

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच कहा जो है बस तू ही तू है……………जब मै और मेरा का भाव मिट जाता है तब आनन्द ही आनन्द रहता है।

    उत्तर देंहटाएं