शुक्रवार, अक्तूबर 22

मन छोटा सा

मन छोटा सा

चाह मान की जिसे जिलाए
वह है अपना छोटा सा तन
कुछ पाने की आस लगाये
वह है अपना छोटा सा मन !

अमन हुआ जब मुक्त हो गया
त्यागी तृष्णा रिक्त हो गया
लाखों हैं बुद्धि में बढ़ कर
जाना जब तब सिक्त हो गया !

मान की आशा ले डूबती
गर्व की नैया सदा टूटती
स्वयं से ही आगे जाना है
दुइ की गागर सदा फूटती !

सहज रहें जैसे हैं बादल
पंछी, पुष्प, चाँद और तारे
भीतर जाकर उसको देखें
जिससे निकले हैं स्वर सारे !

अनिता निहालानी
२२ अक्तूबर २०१०

 

7 टिप्‍पणियां:

  1. सहज रहें जैसे हैं बादल
    पंछी, पुष्प, चाँद और तारे
    भीतर जाकर उसको देखें
    जिससे निकले हैं स्वर सारे !
    सुन्दर सन्देश देती रचना के लिये बधाई। बहुत अच्छा लगा आपका ब्लाग।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी सभी कविताओ को पढ़ा . सारी कवितायेँ बहुत अच्छी हैं . पढ़ना अच्छा लगा . बधाई .........

    उत्तर देंहटाएं
  3. अनीता जी,

    हर बार की तरह बहुत सुन्दर रचना.........

    उत्तर देंहटाएं
  4. 'rosa' film ke geet 'dil hai chhota sa'ke aage aapki kavita ka saar jod du to hoga 'badi- badi aasha'. achchi lagi.

    उत्तर देंहटाएं
  5. स्वयं से ही आगे जाना है
    दुइ की गागर सदा फूटती !

    सत्वचन...सही सीख देती कविता है, धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  6. अभिव्यक्ति का यह अंदाज निराला है. आनंद आया पढ़कर.
    कभी 'आदत.. मुस्कुराने की' पर भी पधारें !!
    new post par
    .............मेरी प्यारी बहना ?

    उत्तर देंहटाएं
  7. आप सब का आभार व ब्लॉग पर स्वागत !

    उत्तर देंहटाएं