शुक्रवार, जून 17

ब्लॉग जगत के सभी पाठकों को समर्पित


एकत्व जगाती है कविता

कवि को कौन चाहिए जग में
एक सुहृदय पाठक ही तो,
कोई तो हो जग में ऐसा
जो समझे उसकी रचना को !

पाठक पढ़ जब होता हर्षित
कवि और उत्साह से लिखता,
रख देता उंडेल कर दिल को
अंतर का बल उसमें भरता !

कवि शब्दों का खेल खेलता
पाठक उसमें होता शामिल,
सीधी दिल में जाकर बसती 
कविता पूरी होती उस पल !

एकत्व जगाती है कविता
जाने कितने दिल यह जोड़े
देश काल के हो अतीत यह
फैले हर सीमा को तोड़े !

कवि खड़ा होता निर्बल हित
सर्वहारा, वंचित जनता हित,
अंतर भर पीड़ा से उनकी 
विरोध करे अन्याय का नित !

अनिता निहालानी
१७ जून २०११
  

20 टिप्‍पणियां:

  1. पाठक पढ़ जब होता हर्षित
    कवि और उत्साह से लिखता,
    रख देता उंडेल कर दिल को
    अंतर का बल उसमें भरता !

    कवि और उसकी कविता दोनो को उतार दिया आपने……एक यही तो चाह होती है उसकी…………अति सुन्दर्।

    उत्तर देंहटाएं
  2. कवि खड़ा होता निर्बल हित
    सर्वहारा, वंचित जनता हित,
    अंतर भर पीड़ा से उनकी
    विरोध करे अन्याय का नित !

    निश्छल ..कोमल ..सुंदर ..सहृदय ..कोमल भाव ....!!
    सुंदर रचना .

    उत्तर देंहटाएं
  3. कवि को कौन चाहिए जग में
    एक सुहृदय पाठक ही तो,
    कोई तो हो जग में ऐसा
    जो समझे उसकी रचना को !

    बहुत सारगर्भित प्रस्तुति...बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  4. कवि खड़ा होता निर्बल हित
    सर्वहारा, वंचित जनता हित,
    अंतर भर पीड़ा से उनकी
    विरोध करे अन्याय का नित

    सही कहा आपने.

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  5. कवि शब्दों का खेल खेलता
    पाठक उसमें होता शामिल,
    सीधी दिल में जाकर बसती
    कविता पूरी होती उस पल

    सटीक बात लिखी है ...कविता तभी सफल होती है ...जब पाठक के मन तक पहुंचती है

    उत्तर देंहटाएं
  6. bahut sundarta ke sath kavi ke hrdy v kavita ke lakshy ko rekhankit kiya hai Anita ji aapne .badhai .

    उत्तर देंहटाएं
  7. कवि और कविता दोनो के मन की बात कह दी आपने ....

    उत्तर देंहटाएं
  8. एक सुहृदय पाठक ही तो,
    कोई तो हो जग में ऐसा
    जो समझे उसकी रचना को !

    बहुत सुन्दर प्रस्तुति...........!

    उत्तर देंहटाएं
  9. पाठक पढ़ जब होता हर्षित
    कवि और उत्साह से लिखता,
    रख देता उंडेल कर दिल को
    अंतर का बल उसमें भरता !

    Adbhut aur Satya ke saath Saundarymayee bhi. Abhar.

    उत्तर देंहटाएं
  10. "कवि खड़ा होता निर्बल हित
    सर्वहारा, वंचित जनता हित,
    अंतर भर पीड़ा से उनकी
    विरोध करे अन्याय का नित"
    हमारे आपके सबके मन की बात कह दी इतनी सादगी से

    उत्तर देंहटाएं
  11. शुक्रिया अनीता जी......हम जैसे पाठकों को भी आपने ये कविता समर्पित की|

    उत्तर देंहटाएं
  12. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 21 - 06 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    साप्ताहिक काव्य मंच-- 51 ..चर्चा मंच

    उत्तर देंहटाएं
  13. एकत्व जगाती है कविता
    जाने कितने दिल यह जोड़े
    देश काल के हो अतीत यह
    फैले हर सीमा को तोड़े !
    bahut sachchai batati hui bhavmai,bemisaal rachanaa.badhaai.

    उत्तर देंहटाएं
  14. सच है पाठक के बिना कविता का वो महत्त्व नहीं होता ...हम भी इस कविता के पाठक हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  15. अनीता जी ! यकीन मानिये..कैसा कैसा मन था आज..आपकी कविता ने सारा मन हल्का कर दिया.और क्या चाहिए एक रचनाकार को.एक पाठक जो समझ सके उसकी अभिव्यक्ति बस.
    रूह तक उतरी आपकी पंक्तियाँ.
    बहुत बहुत आभार आपका. और संगीता जी का जिनकी चर्चा से आपतक पहुंची मैं.

    उत्तर देंहटाएं
  16. सत्य वचन , सुँदर अभिव्यक्ति . आभार

    उत्तर देंहटाएं
  17. कवि शब्दों का खेल खेलता
    पाठक उसमें होता शामिल,
    सीधी दिल में जाकर बसती
    कविता पूरी होती उस पल !

    yahi har kavi ki chaah aur protsaahan hai.

    उत्तर देंहटाएं