सोमवार, जून 13

कुदरत न घूंघट खोलती



कुदरत न घूंघट खोलती 

जो घट रहा सब स्वप्न है
क्यों दिल जलाते हो यहाँ,
जो दिख रहा वह है नहीं
क्यों घर सजाते हो यहाँ !

है ओस की एक बूंद जो
मोती बनी, उड़ जायेगी,
मुड़ देख लो जरा रेत पर
मरीचिका खो जायेगी !

यहाँ बज रही नित बांसुरी
निज सुर लगाये हर कोई
क्यों चाह होती है हमें
वह गीत मेरा गाए ही !  

निज बोध न होता यदि  
कुदरत न घूंघट खोलती  
 पा कर परस इक किरण का   
सोयी कमलिनी बोलती !

अनिता निहालानी
१३ जून २०११  

13 टिप्‍पणियां:

  1. घर सिर्फ तभी सज सकता है सही मायने में ,जब हम घर को उसके लिये सजाएं जिसके लिये कमलिनी बोलती है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. निज बोध न होता यदि
    कुदरत न घूंघट खोलती
    पा कर परस इक किरण का
    सोयी कमलिनी बोलती !

    बहुत खूब कहा है आपने ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. यहाँ बज रही नित बांसुरी
    निज सुर लगाये हर कोई
    क्यों चाह होती है हमें
    वह गीत मेरा गाए ही !
    वाह! बहुत अच्छे भाव।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेहद उम्दा भाव संजोये हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. है ओस की एक बूंद जो
    मोती बनी, उड़ जायेगी,
    मुड़ देख लो जरा रेत पर
    मरीचिका खो जायेगी

    ये पंक्तियाँ बहुत अच्छी लगीं.

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  6. जो घट रहा सब स्वप्न है
    क्यों दिल जलाते हो यहाँ,
    जो दिख रहा वह है नहीं
    क्यों घर सजाते हो यहाँ !

    बहुत सार्थक सन्देश...

    उत्तर देंहटाएं
  7. जो घट रहा सब स्वप्न है
    क्यों दिल जलाते हो यहाँ,
    जो दिख रहा वह है नहीं
    क्यों घर सजाते हो यहाँ !

    बहुत खूब अनीता जी - वाह. खुद की ये पंक्तियाँ याद आयीं-

    किसे खबर है अगले पल की
    फिर भी सबको चिंता कल की

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  8. है ओस की एक बूंद जो
    मोती बनी, उड़ जायेगी,
    मुड़ देख लो जरा रेत पर
    मरीचिका खो जायेगी

    खूबसूरती से कहा है कि सब नश्वर है ..फिर भी भटक रहे हैं ..

    उत्तर देंहटाएं
  9. एक एक लफ्ज़ बेहतरीन है.......सत्य के घूँघट खोलता हुआ......सुभानाल्लाह |

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं