शुक्रवार, अक्तूबर 7

कोई है


कोई है

सुनो ! कोई है
जो प्रतिपल तुम्हारे साथ है
तुम्हें दुलराता हुआ
सहलाता हुआ
आश्वस्त करता हुआ !

कोई है
जो छा जाना चाहता है
तुम्हारी पलकों में प्यार बनकर
तुम्हारे अधरों पर मुस्कान बनकर
तुम्हारे अंतर में सुगंध बनकर फूटना चाहता है ! 

कोई है
थमो, दो पल तो रुको
उसे अपना मीत बनाओ
खिलखिलाते झरनों की हँसी बनकर जो घुमड़ रहा है
तुम्हारे भीतर उजागर होने दो उसे ! 

कोई है
जो थामता है तुम्हारा हाथ हर क्षण
वह अपने आप से भी नितांत अपना
बचाता है अंधेरों से ज्योति बन के समाया है तुम्हारे भीतर
उसे पहचानो
सुनो ! कोई है

8 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर
    मर्मस्पर्शी प्रस्तुति ||
    शुभ विजया ||

    उत्तर देंहटाएं
  2. सही कहा ..कोई है ..अच्छी लगी रचना शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बस उसी कोई को ही तो जानना है उसी के पीछे उम्र भर दौडता है कस्तूरी हिरण की तरह मगर अपने अन्दर ही है वो यही नही जान पाता।

    उत्तर देंहटाएं
  4. हाँ,उस कोई में ही तो सब कुछ है,उसके बिना तो पूरी दुनिया बेमानी है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. कोई है
    जो थामता है तुम्हारा हाथ हर क्षण
    वह अपने आप से भी नितांत अपना
    बचाता है अंधेरों से ज्योति बन के समाया है तुम्हारे भीतर
    उसे पहचानो
    सुनो ! कोई है


    वाह......सुन्दर |

    उत्तर देंहटाएं
  6. ऐसे ‘कोई’ को लपक कर हाथ थाम लेना चाहिए। बहुत कम ही कोई मिलता है आत्मीयता के साथ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. नीरज जी, जब कुछ समझ न आये वही पल विश्राम का होता है.. मन रुक गया बुद्धि चकरा कर थम गयी और तब भीतर जो खालीपन है उसमें ही टिक जाएँ...ध्यान की झलक मिल सकती है..

    उत्तर देंहटाएं