शुक्रवार, अक्तूबर 28

कहाँ मिलेंगे कोमल रिश्ते


कहाँ मिलेंगे कोमल रिश्ते  

दीवाली अभी गयी नहीं है
भाई दूज  है याद दिलाता,
बहना के अंतर में निर्मल
स्नेह की पावन धार बहाता !

पुलक जगी कैसी भीतर जब
फोन की घंटी थी खनकाई,
कानों में भाई-भाभी की
प्रीत भरी जब ध्वनि सुनाई !

हफ्तों पहले भेज दिया था
बहुत सहेज के अक्षत-केसर,
मुहं मीठा करने को बांधा
छोटी सी पुडिया में शक्कर !

सदा सुखी हो प्रियजनों सँग 
यही दुआ मन आज दे रहा,
सहज हृदय की गहराई से
सबके हेतु यही कह रहा !

स्नेह ही है जीवन की थाती
दिल में इसे समाये रहते,
जग में सब कुछ मिल सकता है
कहाँ मिलेंगे कोमल रिश्ते !
� �P�

14 टिप्‍पणियां:

  1. स्नेह ही है जीवन की थाती
    दिल में इसे समाये रहते,
    जग में सब कुछ मिल सकता है
    कहाँ मिलेंगे कोमल रिश्ते !
    बहुत सुंदर । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. भाई दूज की हार्दिक शुभकामनाएँ!
    कविता बहुत अच्छी लगी।

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. रिश्ते ही हमारी जिंदगी को सहेजते हैं!
    सुन्दर!

    उत्तर देंहटाएं
  4. सही कहा वो कोमल रिश्ते जो नेह के धागे में बंधे हैं. कहीं और नहीं मिलते..

    उत्तर देंहटाएं
  5. स्नेह ही है जीवन की थाती
    दिल में इसे समाये रहते,
    जग में सब कुछ मिल सकता है
    कहाँ मिलेंगे कोमल रिश्ते !



    कोमल रिश्ते !!
    सचमुच अब स्वप्नवत हैं, संसार कितना कठोर है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. कहां मिलेंगे कोमल रिश्‍ते
    सच है !!

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह बहुत सुन्दर भावाव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह ...बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. दिवाली पर मन को छूती हुई सुन्दर प्रस्तुति.
    www.belovedlife-santosh.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं