सोमवार, अक्तूबर 3

स्वर्ग धरा पे लाए कौन


स्वर्ग धरा पे लाए कौन

अवसर नहीं चूकता कोई
नर्क गढ़े चले जाता है,
नर्क का ही अभ्यास हो चला
स्वर्ग धरा पे लाए कौन ?

शक होता है प्यार पे सबको
नफरत को जपते माला से,
अंधकार में रहना भाता
ज्योति यहाँ जलाये कौन ?

डर कायम है भीतर-भीतर
ऊपर चस्पां है मुस्कान,
चुनता है मन असंतोष ही
मधुर गान फिर गाए कौन ?

जिसने यह सच जान लिए हैं
वही बनेगा भागीरथ अब,
धरती पर सुर सरि बह निकले
सहज प्रेम ही बरसेगा तब ! 


10 टिप्‍पणियां:

  1. नरक बनाने में जुटे, सारे आमो-ख़ास |
    नोच-नोच के खा रहे, खोकर होश-हवाश ||

    बधाई ||
    बढ़िया प्रस्तुति ||

    उत्तर देंहटाएं
  2. नरक बनाने में जुटे, सारे आमो-ख़ास |

    नोच-नोच के खा रहे, खोकर होश-हवाश |

    खोकर होश-हवाश, हवश के भूखे बन्दे |

    ढोते खुद की लाश, रहे गन्दे के गन्दे |

    लाएगा के स्वर्ग, स्वर्ग के जानो माने |

    सन्तति का आधार, लगे क्यूँ नरक बनाने ||
    http://terahsatrah.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  3. दोहरी ज़िन्दगी से बाहर निकल कर हमें एक स्वच्छ और निर्भय जीवन जीने का आनन्द लेना चाहिए।

    उत्तर देंहटाएं
  4. ज्योति से ज्योति जगती है पर ज्योति जगाये कौन ..? बहुत सुन्दर लिखा है आपने.

    उत्तर देंहटाएं
  5. शक होता है प्यार पे सबको
    नफरत को जपते माला से,
    अंधकार में रहना भाता
    ज्योति यहाँ जलाये कौन ?

    बहुत खूब.....

    उत्तर देंहटाएं
  6. धन्य-धन्य यह मंच है, धन्य टिप्पणीकार |

    सुन्दर प्रस्तुति आप की, चर्चा में इस बार |

    सोमवार चर्चा-मंच

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  7. ज्योति यहाँ जलाए कौन....
    सुन्दर गीत...
    सादर बधाई....

    उत्तर देंहटाएं
  8. Any writer that takes the time to research a subject as thoroughly as you have deserves to be commended. This article is appealing and very well-written. The first two sentences encouraged me to read more.

    From Computer Addict

    उत्तर देंहटाएं