शुक्रवार, अक्तूबर 14

बूंद जैसे ओस की हो


बूंद जैसे ओस की हो

जल रही है ज्योति भीतर
तिमिर पर घनघोर छाया,
स्रोत है अमृत का सुखकर
किन्तु मन तृप्ति न पाया !

औषधि के घट भरे हैं
वृक्ष सारे जो हरे हैं,
किन्तु रोगी तन हुए हैं
क्षुधा को हरना न आया !

एक मीठी प्यास जागे
उस अलख की आस जागे,
बस यही कर्त्तव्य भूला
जग तू सारा छान आया !

चाँद पर पहुँचा है मानव
किन्तु पृथ्वी को उजाड़ा,
रौंद डाले हरे जंगल
मानवों ने कहर ढ़ाया !

जहाँ धन ही देवता हो
कौन खोजे आत्मा को,
जहाँ मन ही बना राजा
ठगे क्यों न वहाँ माया !

माना थोड़ा सुख मिला है
बूंद जैसे ओस की हो,
कब टिका है भ्रम किसी का
तोड़ने ही काल आया !

12 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया |
    बधाई ||
    http://dineshkidillagi.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  2. जहाँ धन ही देवता हो
    कौन खोजे आत्मा को,
    जहाँ मन ही बना राजा
    ढगे क्यों न वहाँ माया !


    बहुत ख़ूबसूरत जज्बातों से सजी पोस्ट.....शानदार|

    अनीता जी शायद 'ढगे' की जगह 'ठगे' होना चाहिए था|

    उत्तर देंहटाएं
  3. और हाँ....... अनीता जी मैं आपकी पुस्तकों का इंतज़ार करूँगा......आप को जब सहूलियत हो बोलियेगा मैं अपना पता दे दूँगा|

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह वाह ……………बहुत सुन्दर बात कही है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. धन्यवाद, आप अपना पता भेज दें.....

    उत्तर देंहटाएं
  6. एक मीठी प्यास जागे
    उस अलख की आस जागे,
    बस यही कर्त्तव्य भूला
    जग तू सारा छान आया !

    चाँद पर पहुँचा है मानव
    किन्तु पृथ्वी को उजाड़ा,
    रौंद डाले हरे जंगल
    मानवों ने कहर ढ़ाया !

    Bahut sundar aur sarthak panktiyan ... Anita Ji.
    Main bhi apki pustakein chahta hun. Kaise prapt kar sakta hun, batane ki kripa kariye.

    उत्तर देंहटाएं
  7. चाँद पर पहुँचा है मानव
    किन्तु पृथ्वी को उजाड़ा,
    रौंद डाले हरे जंगल
    मानवों ने कहर ढ़ाया !

    बहुत सही बात कही है आपने।

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  8. गूढ़ रहस्य है ..परमात्मा ने सुख को ओस की बूंद ही बना कर भेजता है. झंकृत सत्य.. ..

    उत्तर देंहटाएं
  9. द्विवेदी जी आप भी अपना पता भेज दें, मैं पुस्तकें भेज दूँगी....
    ईमेल : anitanihalani@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  10. भ्रम तो टूट ही जाते हैं!
    सुन्दर रचना!

    उत्तर देंहटाएं