सोमवार, अक्तूबर 31

निजता में उसको पा जाये


निजता में उसको पा जाये

धन कमाता चैन गंवा कर
चैन कमाता धन गंवाकर,
कैसा अद्भुत प्राणी मानव
रह जाते दोनों खाली कर !

श्वास श्वास में भर सकता था
बड़े परिश्रम से वह पाता,
सहज ही था जो मिला हुआ
दुगना श्रम कर उसे मिटाता !

खेल समझ के जीवन कोई
मोल कौडियों बेच रहा है,
मुँह लटकाए बोझ उठाये
दूजा पीड़ा झेल रहा है !

कहीं हो रही भूल है भारी
निज पैरों पर चले है आरी
तज हीरे कंकर घर लाते
करें अँधेरे की तैयारी !

भीतर जो चल रहा युद्ध है
भाग रहा है उससे मानव,
धन, यश एक बहाना ही है
बचने का भीतर जो दानव !  

खुले आँख तो भ्रम मिट जाये
उत्सव जीवन में छा जाये,
ढूँढ रहा जो मानव जग में
निजता में उसको पा जाये !


�)�k

12 टिप्‍पणियां:

  1. खुले आँख तो भ्रम मिट जाये
    उत्सव जीवन में छा जाये,
    ढूँढ रहा जो मानव जग में
    निजता में उसको पा जाये !

    ग्यान चक्षु खुल जाये,तो जीवन संवर जाये.
    आपकी अनुपम प्रस्तुति के लिए हृदय से आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  3. खुले आँख तो भ्रम मिट जाये
    उत्सव जीवन में छा जाये,
    ढूँढ रहा जो मानव जग में
    निजता में उसको पा जाये !
    बहुत बढि़या ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. भीतर जो चल रहा युद्ध है
    भाग रहा है उससे मानव,
    धन, यश एक बहाना ही है
    बचने का भीतर जो दानव !

    खुले आँख तो भ्रम मिट जाये
    उत्सव जीवन में छा जाये,
    ढूँढ रहा जो मानव जग में
    निजता में उसको पा जाये !

    सार्थक सन्देश देती सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  5. भीतर जो चल रहा युद्ध है
    भाग रहा है उससे मानव,
    धन, यश एक बहाना ही है
    बचने का भीतर जो दानव !
    आखिर कब तक हम अपने आप से भागते रहेंगे?

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत स्‍वस्‍थ चिंतन रहता है आपका ..

    उत्तर देंहटाएं
  7. ढूँढ रहा जो मानव जग में
    निजता में उसको पा जाये !

    खोजना तो भीतर ही है... बाहर तो केवल भटकाव है!

    उत्तर देंहटाएं
  8. भीतर जो चल रहा युद्ध है
    भाग रहा है उससे मानव,
    धन, यश एक बहाना ही है
    बचने का भीतर जो दानव !

    बहुत सुन्दर हर पंक्ति लाजवाब.....ये सबसे अच्छी लगी|

    उत्तर देंहटाएं
  9. सार्थक सन्देश .. ज्ञानबोध कराती कविता अच्छी लगी..आदर सहित

    उत्तर देंहटाएं
  10. गहन अर्थों से सुशोभित अध्यात्म कि एक और प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  11. सार्थक/संदेशात्मक गीत....
    सादर बधाई...

    उत्तर देंहटाएं