सोमवार, फ़रवरी 20

शिवरात्रि के पावन पर्व पर हार्दिक शुभकामनायें


शिवरात्रि पर

एक झलक जो तेरी पाए
तेरा दीवाना हो जाये,
गा-गा कर फिर महिमा तेरी
मस्त हुआ सा दिल बहलाए !

तू कैसी सरगोशी करता
जो जैसा, तुझे वैसा देखे,
पल–पल चमत्कार दिखलाता
बुद्धि खा जाती है धोखे !

कौन जान सकता है तुझको
अगम, अगोचर, अकथ, अनंत,
एक प्रखर आलोक अनोखा
जिसका कभी न होता अंत !

नभ के सूरज उगते मिटते
भीतर तेरा सूर्य अजर है,
तू अकम्प सदा है प्रज्वलित
परम उजाला वही अमर है !

तू करुणा का सिंधु अपरिमित
नहीं पुकार अनसुनी करता,
जो तुझको आधार बनाता
अंतर वह निज प्रेम से भरता !


   

10 टिप्‍पणियां:

  1. ॐ नमः शिवाय!
    इस महापर्व की हार्दिक शुभकामनाएं!
    सुन्दर रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  2. कौन जान सकता है तुझको
    अगम, अगोचर, अकथ, अनंत,
    सुन्दर रचना...
    ओम् नमः शिवाय!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. तू करुणा का सिंधु अपरिमित
    नहीं पुकार अनसुनी करता,
    जो तुझको आधार बनाता
    अंतर वह निज प्रेम से भरता !

    ॐ नमः शिवाय.....

    उत्तर देंहटाएं
  4. बम भोले!
    ये तो औढर दानी हैं। सबकी सुनते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. ओम् नमः शिवाय....
    बढ़िया रचना...
    शिवरात्री की बधाईयां...

    उत्तर देंहटाएं
  6. ओम नमः शिवाय ...
    जय हो भोले बाबा की ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपको भी बहुत शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  8. आप सभी का हार्दिक स्वागत व आभार!

    उत्तर देंहटाएं