बुधवार, फ़रवरी 22

ठहर गया उर ज्यों आकाश


ठहर गया उर ज्यों आकाश


विरस हुआ जग से जब कोई
स्वरस में डूबा उतराया,
धीरे-धीरे उससे उबरा
रस कोई भी बांध न पाया ! 

जग से लौटा ठहरा खुद में
स्वयं से भी फिर मुक्त हुआ,
स्वयं ‘पर’ के बल पर ही टिकता
मन इससे भी रिक्त हुआ !

अब न कोई दौड़ शेष है
न जग की न भीतर की ही,
ठहर गया उर ज्यों आकाश
कंपती नहीं ज्योति अंतर की ! 

10 टिप्‍पणियां:

  1. अब न कोई दौड़ शेष है
    न जग की न भीतर की ही,
    ठहर गया उर ज्यों आकाश
    कंपती नहीं ज्योति अंतर की !
    bahut sundar rachna

    उत्तर देंहटाएं
  2. ठहर गया उर ज्यों आकाश
    कंपती नहीं ज्योति अंतर की !
    sunder udgar man ke ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. जग से लौटा ठहरा खुद में
    स्वयं से भी फिर मुक्त हुआ,
    स्वयं ‘पर’ के बल पर ही टिकता
    मन इससे भी रिक्त हुआ !

    बहुत ही सुन्दर.....काश ये अवस्था कभी हम जैसो की भी हो जाये।

    उत्तर देंहटाएं
  4. जग से लौटा ठहरा खुद में
    स्वयं से भी फिर मुक्त हुआ,
    स्वयं ‘पर’ के बल पर ही टिकता
    मन इससे भी रिक्त हुआ !

    इस भावपूर्ण रचना के लिए बधाई स्वीकारें

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत गहन और सुंदर प्रस्तुति...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  6. यही तो मुक्ति मार्ग है...

    सुन्दर भाव अनीता जी..
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  7. अब न कोई दौड़ शेष है
    न जग की न भीतर की ही,
    ठहर गया उर ज्यों आकाश
    कंपती नहीं ज्योति अंतर की !
    ... "..............."

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेहतरीन भाव ... बहुत सुंदर रचना प्रभावशाली प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत बड़ी बात है जो भीतर की ज्योति कांपे नहीं .. मंत्रमुग्ध करती रचना..

    उत्तर देंहटाएं