शुक्रवार, फ़रवरी 24

देखो कोई ताक रहा है


देखो कोई ताक रहा है


चुपके चुपके झांक रहा है
सम्मुख आने से घबराए
उसके भीतर से ही देखे
नन्हा सा जो फांक रहा है

देखो कोई ताक रहा है

पर्दे के पीछे वह रहता
सारी नादानी को सहता
पल-पल छिन-छिन गुपचुप निशदिन
चलता उसका चाक रहा है

देखो कोई ताक रहा है

लुका छिपी का खेल चल रहा
दर्पण जब मन बन जाता है
तब हर पल ही मेल हो रहा
तब तक जीवन खाक रहा है

देखो कोई ताक रहा है

दृश्य वही द्रष्टा भी वह है
फिर भी पर्दा मध्य में डाला
कैसा खेल रचाया माधव
अनुपम, अद्भुत पाक रहा है

देखो कोई ताक रहा है
 
प्रेम धार जब दिल में बहती
तब सारे पर्दे गिर जाते
प्रकट हुआ वह छिप न सके तब
प्रेमी-प्रियतम आप रहा है
देखो कोई ताक रहा है

जब प्रियतम भी खो जाता है
प्रेम ही प्रेम बचा रहता
न प्याला न मधु ही बचे
बस मदहोशी का आक रहा है
 
देखो कोई ताक रहा है






15 टिप्‍पणियां:

  1. जैसे परम-पिता के दर्शन, करे आत्मा पावन ।

    वैसे लुकाछिपी शिशु खेले, माँ के संग मनभावन ।।


    दिनेश की टिप्पणी - आपका लिंक
    http://dineshkidillagi.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  2. जब प्रियतम भी खो जाता है
    प्रेम ही प्रेम बचा रहता
    न प्याला न मधु ही बचे
    बस मदहोशी का आक रहा है

    देखो कोई ताक रहा है
    मुझमे कोई झांक रहा है…………शानदार प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रेम धार जब दिल में बहती
    तब सारे पर्दे गिर जाते
    प्रकट हुआ वह छिप न सके तब
    प्रेमी-प्रियतम आप रहा है
    देखो कोई ताक रहा है

    bahut sundar rachna anita ji --------aabhar

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह!!!!!
    दृश्य वही द्रष्टा भी वह है
    फिर भी पर्दा मध्य में डाला
    कैसा खेल रचाया माधव
    अनुपम, अद्भुत पाक रहा है

    बहुत बहुत खूबसूरत रचना अनीता जी...
    सचमुच लाजवाब...

    उत्तर देंहटाएं
  5. पर्दे के पीछे वह रहता
    सारी नादानी को सहता
    पल-पल छिन-छिन गुपचुप निशदिन
    चलता उसका चाक रहा है

    देखो कोई ताक रहा है

    ....सच है..उससे क्या छुपा है...बहुत सुंदर रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  6. ख़ुदी से बेखुदी तक ले जाती है आपकी सुन्दर रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  7. कल शनिवार , 25/02/2012 को आपकी पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .

    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेहतरीन और बहुत कुछ लिख दिया आपने..... सार्थक अभिवयक्ति......

    उत्तर देंहटाएं
  9. प्रेम धार जब दिल में बहती
    तब सारे पर्दे गिर जाते
    प्रकट हुआ वह छिप न सके तब
    प्रेमी-प्रियतम आप रहा है
    देखो कोई ताक रहा है....

    सारे शब्द छिन गए जैसे......
    क्या कहूँ.....!!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. जब प्रियतम भी खो जाता है
    प्रेम ही प्रेम बचा रहता
    न प्याला न मधु ही बचे
    बस मदहोशी का आक रहा है

    बहुत ही सुन्दर है कविता.....शानदार, लाजवाब।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहूत हि सुंदर रचना है
    बहूत बढीया प्रस्तुती...

    उत्तर देंहटाएं
  12. आप सभी सुधी पाठकों का स्वागत व आभार!

    उत्तर देंहटाएं