बुधवार, जून 27

जमीन से जुड़े लोग


जमीन से जुड़े लोग

आपके पावों में अभी
चुभा नहीं है कांटा
दर्द आप कैसे जानेंगे
फूंक फूंक कर पीते हैं वे छाछ भी
दूध के जले हैं, इतना तो मानेंगे....

नहीं लगी आग कभी
आलीशान महलों में आपके
फूस की झोंपड़ी थी, जल गयी
बस कहकर यह, लंबी तानेंगे...

पानी बाढ़ का भला, कैसे
करे हिमाकत
चढ़ने की सीढियाँ, महलों की आपके
गाँव के गाँव डूब गए जिसमें
उस सैलाब को
उड़ के आसमां से जानेंगे...

सुलगती रेत में जले नहीं
तलवे जिनके
क्या जानेंगे वे राज माटी का
बरसती आग में न झुलसे तन
बरसते सावन का मजा
खाक जानेंगे...

बारिशें उड़ा ले गयीं न छप्पर जिनका
कैसे भिगोएँगे भला, बादल उनको
उगाते हैं जमीं से जो सोना
पसीने को उन्हीं के, धोयेंगे बादल

कडकती शीत में न कटकटायीं
हाड़ें जिनकी
तपिश अलाव की, न दे पायेगी सुकून
गल न गयीं बर्फ में
 उंगलियाँ जिसकी
क्या कदर होगी गर्म वस्त्रों की उसे...

मुश्किलों से जो दो चार हुआ करते हैं
वही श्वासों की कीमत अदा करते हैं
जमीन से जुड़े हैं जो लोग यहाँ
वही जगत की जीनत बना करते हैं !




11 टिप्‍पणियां:

  1. शनिवार 30/06/2012 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. आपके सुझावों का स्वागत है . धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सशक्त लेखन ... अच्छी प्रस्तुति ....गरीबों की व्यथा भला महलों में रहने वाले कहाँ समझेंगे ?

    उत्तर देंहटाएं
  3. जिंदगी समझने के लिए संघर्ष में आकंठ डूबना हीं होता है...सुन्दर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  4. आप सभी का तहे दिल से शुक्रिया !

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बहुत बहुत ही उम्दा है पोस्ट....हैट्स ऑफ इसके लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  6. जमीन पर ही जड़े फैलती है...इससे कट कर कोई कैसे विकास कर लेता है...सुन्दर रचना..

    उत्तर देंहटाएं