सोमवार, जून 18

एक रागिनी है मस्ती की


एक रागिनी है मस्ती की

एक ही धुन बजती धड़कन में
एक ही राग बसा कण-कण में,
एक ही मंजिल, एक ही रस्ता
एक ही प्यास शेष जीवन में !

एक ही धुन वह निज हस्ती की
एक रागिनी है मस्ती की,
एक पुकार सुनाई देती
दूर पर्वतों की बस्ती की !

मस्त हुआ जाये ज्यों नदिया
पंछी जैसे उड़ते गाते,
उड़ते मेघा सँग हवा के
बेसुध छौने दौड़ लगाते !

खुले हों जैसे नीलगगन है
उड़ती जैसे मुक्त पवन है,
क्यों दीवारों में कैद रहे मन
परम प्रीत की लगी लगन है !

एक अजब सा खेल चल रहा
लुकाछिपी है खुद की खुद से,
स्वयं ही कहता ढूंढो मुझको
स्वयं ही बंध कर दूर है खुद से ! 

8 टिप्‍पणियां:

  1. क्यों दीवारों में कैद रहे मन
    परम प्रीत की लगी लगन है !
    दिव्य... सुन्दर!

    उत्तर देंहटाएं
  2. लुकाछिपी...खुद की खुद से....
    बहुत सुन्दर अनीता जी.

    उत्तर देंहटाएं
  3. अलमस्त करती सुन्दर प्रस्तुति..अनीता जी.

    उत्तर देंहटाएं
  4. एक अजब सा खेल चल रहा
    लुकाछिपी है खुद की खुद से,
    स्वयं ही कहता ढूंढो मुझको
    स्वयं ही बंध कर दूर है खुद से !

    सच बात है ....मन मे ही तो सब कुछ है ....
    सार्थक रचना ...
    शुभकामनायें...!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. लुका छिपी का ये खेल बहुत ही सुन्दर लगा।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुंदर गीत वाकई यह रागिनी मस्ती की है.

    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  7. खुद की खुद से लुकाछिपी जो समझ ले तो उसको पा ही लेगा..अच्छी लग रही है..

    उत्तर देंहटाएं