शनिवार, जून 2

एक असीम गीत भीतर है


एक असीम गीत भीतर है


निर्मल जैसे शुभ्र हिमालय
स्वयं अनंत है व्यक्त न होता
यही उहापोह मन को डसता !

एक असीम गीत भीतर है
गूंज रहा जो प्रकट न होता
यही उहापोह मन को खलता !

खिल न पाता हृदय कुसुम तो
कलिका बनकर भीतर घुटता
 यही उहापोह मन में बसता !

सुरभि निखालिस कैद है जिसकी
ज्योति अलौकिक कोई ढकता 
यही उहापोह लिये तरसता !

सबके उर की यही कहानी
कह न पाए कितना कहता
 देख उहापोह मन है हँसता !

10 टिप्‍पणियां:

  1. सही कहा सब के ह्रदय असीम भावो के ओत-प्रोत है..कुछ व्यक्त हो जाते है कुछ दबे रह जाते हैं.. सुन्दर अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी रचनाए हमेशा उत्साह ,एक नई ऊर्जा का संचार करती हैं.....!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक असीम गीत भीतर है
    गूंज रहा जो प्रकट न होता
    यही उहापोह मन को खलता !

    सच में.....
    कभी-कभी.....
    अभी भी....!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. सबके उर की यही कहानी
    कह न पाए कितना कहता
    अक्षरशः सत्य!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेहद खूबसूरत रचना ...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  6. सबके उर की यही कहानी .....सचमुच....
    खूबसूरत रचना...
    सादर।

    उत्तर देंहटाएं
  7. ये उहापोह चलता ही रहता है शायद उम्र भर....सुन्दर प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं