मंगलवार, मई 21

स्वयं ही स्वयं को लिखता पाती


स्वयं ही स्वयं को लिखता पाती

जीवन है सौगात अनोखी
माँ का आंचल, पिता का सम्बल,
प्रियतम का सुदृढ़ आश्रय
वात्सल्य का निर्मल सा जल !

गीत भी है, संगीत जहाँ में
दृश्य सुहाने मोहक मंजर,
वर्षा की सोंधी सी खुशबू  
भोर हुए पंछी के मृदु स्वर !

झोली भर-भर मिले खजाने
कुदरत का अनन्य कोष है,
तृप्त हुआ बस डोले इत-उत
अंतर जिसके जगा तोष है !

श्वास-श्वास है नेमत उसकी
अमृत सा जल, सूरज, बादल,
नेह का ताप, प्रीत शीतलता
उमड़-घुमड़ बरसा अश्रुजल !

भाव जगाता, शब्द सुझाता
स्वयं ही स्वयं को लिखता पाती,
कैसी अद्भुत एक ऊर्जा
 अनायास सृष्टि अँक जाती !

सर्व सुखी भव, सर्व निरामय
गीत पुन ऐसे गाने हैं,
बने प्रार्थना धड़कन दिल की
बहें जो मधुर तराने हैं  !

15 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर भाव का लयपूर्ण प्रस्तुति !

    अनुशरण कर मेरे ब्लॉग को अनुभव करे मेरी अनुभूति को
    latest postअनुभूति : विविधा
    latest post वटवृक्ष

    उत्तर देंहटाएं
  2. श्वास-श्वास है नेमत उसकी
    अमृत सा जल, सूरज, बादल,
    नेह का ताप, प्रीत शीतलता
    उमड़-घुमड़ बरसा अश्रुजल !

    बहुत सुंदर ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. सर्व सुखी भव, सर्व निरामय
    गीत पुन ऐसे गाने हैं,
    बने प्रार्थना धड़कन दिल की
    बहें जो मधुर तराने हैं
    बहुत सुन्दर भावनाएं ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खूबसूरती से रची रचना
    उम्दा अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  5. र्व सुखी भव, सर्व निरामय
    गीत पुन ऐसे गाने हैं,
    बने प्रार्थना धड़कन दिल की
    बहें जो मधुर तराने हैं !

    गंगाजल की धारा सा प्रवाह...

    उत्तर देंहटाएं
  6. नेमत उसकी ही है जो हमसे प्रार्थना में भी अभिव्यक्ति पाती है..

    उत्तर देंहटाएं
  7. कितनी मंगल-भावनाओं से ओत-प्रोत कविता -मन को विश्राम देती सी !

    उत्तर देंहटाएं
  8. सर्व सुखी भव, सर्व निरामय
    गीत पुन ऐसे गाने हैं,
    bahut sundar..

    उत्तर देंहटाएं
  9. कालीपद जी, मंटू जी, माहेश्वरी, मुकेश जी, अमृता जी, प्रतिभा जी, पूनम जी, अशोक जी, संध्या जी, रजनीश जी व संगीता जी आप सभी का हार्दिक स्वागत व आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  10. संतोष से भरी ये कविता तृप्तिदायक है ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. भाव जगाता, शब्द सुझाता
    स्वयं ही स्वयं को लिखता पाती,
    कैसी अद्भुत एक ऊर्जा
    अनायास सृष्टि अँक जाती !

    WAH! BEHTREEN RACHNA....

    उत्तर देंहटाएं