सोमवार, मई 27

इक दिया, कुछ तेल, बाती


इक दिया, कुछ तेल, बाती



खो गया है कोई घर में चलो उसको ढूँढ़ते हैं
बह रहा जो मन कहीं भी बांध कोई बाँधते हैं

आँधियों की ऊर्जा को पाल में कैसे समेटें  
उन हवाओं से ही जाकर राज इसका पूछते हैं

इक दिया, कुछ तेल, बाती जब तलक ये पास हैं
उन अंधेरों से डरें क्यों खुद जो रस्ता खोजते हैं

हँस दे पल में पल में रोए मन शिशु से कम नहीं
दूर हट के उस नादां की हरकतें हम देखते हैं

कुछ न खुद के पास लेकिन ऐंठ में अव्वल है जो
उस अकड़ को शान से कपड़े बदलते देखते हैं  



13 टिप्‍पणियां:

  1. आपने लिखा....
    हमने पढ़ा....
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए बुधवार 29/05/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    पर लिंक की जाएगी.
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. इक दिया, कुछ तेल, बाती जब तलक ये पास हैं
    उन अंधेरों से डरें क्यों खुद जो रस्ता खोजते हैं

    प्रेरक रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. हँस दे पल में पल में रोए मन शिशु से कम नहीं
    दूर हट के उस नादां की हरकतें हम देखते हैं

    वाह बहुत सुन्दर.......

    उत्तर देंहटाएं
  4. इक दिया, कुछ तेल, बाती जब तलक ये पास हैं
    उन अंधेरों से डरें क्यों खुद जो रस्ता खोजते हैं

    शानदार प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  5. लाजवाब, उम्दा, बहुत खूब भाव पिरोये शब्दों में | आभार

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    उत्तर देंहटाएं
  6. इक दिया, कुछ तेल, बाती जब तलक ये पास हैं
    उन अंधेरों से डरें क्यों खुद जो रस्ता खोजते हैं

    ....वाह! बहुत सुन्दर प्रभावी रचना...

    उत्तर देंहटाएं

  7. वाह ,बेह्तरीन अभिव्यक्ति .शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  8. खो गया है कोई घर में चलो उसको ढूँढ़ते हैं
    बह रहा जो मन कहीं भी बांध कोई बाँधते हैं.

    सुंदर भाव लिये खूबसूरत कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  9. रचना जी, कैलाश जी, तुषार जी, मदन जी, यशोदा जी, संगीता जी, मीनाक्षी जी, अशोक जी, इमरान, प्रतिभाजी, माहेश्वरी जी, वन्दना जी आप सभी का हार्दिक आभार व् स्वागत !

    उत्तर देंहटाएं