शुक्रवार, जुलाई 19

यह कैसी विरासत

यह कैसी विरासत


बच्चा प्रेम से भरा आता है जग में
कोमल भावनाओं से ओत-प्रोत
अक्सर दबा ही रह जाता है
भीतर प्रेम का बीज
जिसे सींचना था स्नेहिल स्पर्श से
झोंक दिया जीता है प्रतिस्पर्धा की आग में
उसे जल्दी ही....
कभी खा जाती है अभावों की आग
कभी अन्याय और असामनता का जहर
मिला दिया जाता है
उसके भोजन और पानी में
मारो, काटो की भाषा सिखाई जाती है
 मारो कीटों को
काटो जंगलों को, जानवरों को
नहीं सिखाते भाषा सह-अस्तित्व की
नहीं पढ़ाते
सहयोग की रीति और सुनीति
प्रकृति से दूर होते ही
आदमी जैसे बदल जाता है
और अपनी ही संतति को
विरासत में मृत्यु दिए जाता है...  

11 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा शनिवार(20-7-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  2. मर्मस्पर्शी......कटु सत्य को उजागर करती पोस्ट।

    उत्तर देंहटाएं
  3. उत्तर
    1. सचमुच अमृता जी, हममे से हरेक इस स्थिति के लिए किसी न किसी रूप में जिम्मेदार है..

      हटाएं
  4. मर्मस्पर्शी सार्थक रचना.......

    उत्तर देंहटाएं
  5. संगीता जी, इमरान, माहेश्वरी जी, कालीपद जी आप सभी का स्वागत व आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  6. नहीं पढ़ाते
    सहयोग की रीति और सुनीति
    प्रकृति से दूर होते ही
    आदमी जैसे बदल जाता है
    और अपनी ही संतति को
    विरासत में मृत्यु दिए जाता है...


    मार्मिक प्रसंग भाव पूर्ण प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं