गुरुवार, जुलाई 4

नया जब दिन उगा

नया जब दिन उगा


नूतन उच्छ्वास भरें
श्वासों में हर्ष के,
नया सा दिन उगा
वृक्ष पर वर्ष के !

आशा कुम्हलायी जो
बंधी अभी छोर में ?
 लिए बासी मन जगे
क्यों कोई भोर में ?

ताजा समीर बहे
क्षमता भी बढ़ी है,
कल से आज तलक
उम्र सीढ़ी चढ़ी है !

जैसा भी हो समय
नया उत्कर्ष हो,
हँसी की गूंज सदा
बीते दिन अमर्ष के !

नया जब दिन उगे  
वृक्ष पर वर्ष के !


18 टिप्‍पणियां:

  1. आपने लिखा....
    हमने पढ़ा....
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए शनिवार 06/07/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    पर लिंक की जाएगी.
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर ....जीवन उत्सव हो जैसे ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. उत्तर
    1. अनुपमा जी व कालीपद जी स्वागत व आभार !

      हटाएं
  4. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवारीय चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. रविकर जी, सुस्वागतम व आभार !

      हटाएं
  5. जैसा भी हो समय
    नया उत्कर्ष हो,
    हँसी की गूंज सदा
    बीते दिन अमर्ष के !

    बहुत खूब! माँ को आल्हादित करती बहुत सुन्दर प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  7. जैसा भी हो समय
    नया उत्कर्ष हो,
    हँसी की गूंज सदा
    बीते दिन अमर्ष के !
    -हम भी आपके साथ यही मनाते हैं!

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह बहुत सुन्दर...
    नया दिन उगा...खिला..खिलखिलाया....

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  9. एक अलग सी अनुभूति..अद्भुत लिखती हैं आप..

    उत्तर देंहटाएं
  10. नूतन उच्छ्वास भरें
    श्वासों में हर्ष के,
    नया सा दिन उगा
    वृक्ष पर वर्ष के !

    सुंदर विचार, सुंदर प्रस्तुति. आशाओं की नयी किरण.

    उत्तर देंहटाएं
  11. कैलाश जी, प्रतिभाजी, यशवंत जी, रचना जी, अमृता जी, अनु जी,अंकुर जी आप सभी का स्वागत व आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर.....नया दिन....नई आशा।

    उत्तर देंहटाएं