मंगलवार, अप्रैल 5

या रब

या रब

या रब हो मेरे दिल का इतना बड़ा मकां
दुनिया के सब गमों को उसमें पनाह मिले !

बरसें मेरे आंगन में चाहे न बदलियाँ
सरहद के उस पार पर पानी सदा मिले !

चलता रहे इस दिल में दुआओं का सिलसिला
खुशबू सी जाके छूलें ऐसी शिफा मिले !

अंतर से फूटतीं हों नेह की हजार किरणें
पहरों में कैद गम का उनको पता मिले !

जन्मों से ढूंढते हैं तेरा ठिकाना जो रब
उनको मेरी नजरों से तेरा पता मिले !

अनिता निहालानी
५ अप्रैल २०११  

5 टिप्‍पणियां:

  1. आमीन......दुआ कबूल हो....

    सुभानाल्लाह......उर्दू में ये पोस्ट दिल को छू गयी.....खुदा आपको रहमतों से नवाज़े....आमीन

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही बढ़िया दिल को छू लेने वाली

    उत्तर देंहटाएं
  3. जन्मों से ढूंढते हैं तेरा ठिकाना जो रब
    उनको मेरी नजरों से तेरा पता मिले.

    बहुत सुंदर नज़्म.

    उत्तर देंहटाएं
  4. दिल को छू लेने वाली ...बहुत सुंदर ..प्रार्थना उठने लगी है.

    उत्तर देंहटाएं