बुधवार, अगस्त 31

आप सभी को ईद मुबारक



ईद के मौके पर एक इबादत

एक ही अल्लाह
एक ही रब है,
एक खुदा है
एक में सब है !

अंत नहीं उसकी रहमत का
करें शुक्रिया हर बरकत का,
उसकी बन्दगी जो भी करता  
क्या कहना उसकी किस्मत का !

जग का रोग लगा बंदे को
नाम दवा कुछ और नहीं है,
वही है मंजिल वही है रस्ता
तेरे सिवा कोई ठौर नहीं है !

सारे जहां का जो है मालिक
छोटे से दिल में आ रहता,
एक राज है यही अनोखा
जाने जो वह सुख से सोता !

तू ही अव्वल तू ही आखिर
तू अजीम है तू ही वाहिद,
दे सबूर तू नूर जहां का
तू ही वाली इस दुनिया का !

अल कादिर तू है कबीर भी
तू हमीद और तू मजीद भी,
दाता है, तू रहीम, रहमान
अल खालिक तू मेहरबान !

तेरे कदमों में दम निकले
दिल में एक यही ख्वाहिश है,
तेरा नाम सदा दिल में हो
ईद पे तुझसे फरमाइश है !





  

8 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर --
    प्रस्तुति |
    बधाई |

    ईद मुबारक

    उत्तर देंहटाएं
  2. ईद और गणेश चतुर्थी की हार्दिक बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  3. तेरा नाम सदा दिल में हो
    ईद पे तुझसे फरमाइश है !
    बहुत सुंदर प्रार्थना । ईद मुबारक । शुभकामनाएँ ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बहुत शुक्रिया अनीता जी........आपको और आपके परिवार को भी ईद मुबारक|

    उत्तर देंहटाएं