शनिवार, नवंबर 5

मन पानी, आत्मा अग्नि



मन पानी, आत्मा अग्नि

छल-छल कल-कल करता जल जो
गति नीचे कर बहता जाता,
ऐसे ही यह मन मानव का,
जल सम नीचे ही ले जाता !

सर-सर, फर-फर करे अनल ज्यों
ऊपर की ही दौड़ लगाती,
सजग हुई आत्मा अपनी
उच्च लोक में ही ले जाती !

जल, अग्नि के निकट हुआ जब
वाष्प रूप में बुद्धि प्रकटी,
जब तक साथ आत्मा का है
गति ऊपर, फिर नीचे आती !

ऊपर नीचे, नीचे ऊपर
मन ही मानव को भटकाता,
कभी बूंद बन लगे बरसने
कभी मेघ बन नभ पर छाता !

अग्नि सम यदि स्वयं को जाने
गति ऊपर की ही होगी उसकी,
पावन है पावन कर सकती
अग्नि में है अनुपम शक्ति !

भटका जल पोखर हो बैठा
कभी किसी सँग मिल के मैला,
जिसका सँग हो वैसे बनता
जल है कोई बिगड़ा छैला !

अग्नि पारस सी पावन है
माना प्यास बुझाता है जल,
अग्नि के सम्पर्क में आ ही
शुद्ध हुआ करता है जल !

12 टिप्‍पणियां:

  1. ऊपर नीचे, नीचे ऊपर
    मन ही मानव को भटकाता,
    कभी बूंद बन लगे बरसने
    कभी मेघ बन नभ पर छाता !

    आपकी हर कविता को पढ़ने का अलग ही आनंद है।

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. अग्नि पारस सी पावन है
    माना प्यास बुझाता है जल,
    अग्नि के सम्पर्क में आ ही
    शुद्ध हुआ करता है जल !

    जल और मन के प्रवाह को कविता का विषय बना बहुत हि सुंदर प्रस्तुति पेश की है अनीता जी. बहुत आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  3. पोर-पोर ज्ञान की आभा से दैदीप्यमान ....
    अग्नि के सामान ...
    बहुत सुंदर रचना ....

    उत्तर देंहटाएं
  4. अनीता जी, एक बात कहनी थी..आप अपनी रचनाओं का ऑडियो बनवाएं. स्वरबद्ध होकर जन-जन के ओठों पर होगी. सुन्दर भजन बनेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  5. मैं अमृता तन्मय की बात से एकदम सहमत हूँ.

    उत्तर देंहटाएं
  6. एक ओजस्वी प्रवाहमयी रचना । शुभकामनाएँ ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. अमृताजी व दीदी, आभार इस सुझाव के लिये कि मेरी कवितायें भजन के रूप में जन-जन तक पहुंचें, इस दिशा में प्रयास करने के लिये यदि आपके पास कोई और सुझाव हो तो दें, यहाँ दुलियाजान में तो यह संभव नहीं है.

    उत्तर देंहटाएं