सोमवार, नवंबर 28

रब भीतर तू बिछड़ा था कब


रब भीतर, जग बिछड़ा था कब


तोड़ दीं बेडियाँ अब तो सब
अब ना जग चाहिए, न ही रब,
तज कर ही तलाश को जाना
रब भीतर, जग बिछड़ा था कब !

चाह मात्र ही दीवार थी
नाहक जिंदगी दुश्वार थी,
मुक्त पखेरू की मानिंद था
चाहत ही लटकी कटार थी !

नभ अपना अब जग सब अपना
नहीं अधूरा कोई सपना,
कदम-कदम पर बिखरी मंजिल
नहीं नींद में उनको जपना !

जिसे भेद का रोग हो लगा
कोई उजास न दिल में जगा,
वही मिटाये बस दूरी को
दिल तो सदा खुशबू में पगा !

दीप से ज्योति की है दूरी?
माटी में है गंध जरूरी,
दिल में नहीं, कहाँ होगी फिर
परिक्रमा मंदिर की पूरी !


4 टिप्‍पणियां:

  1. हमारा चलना घूमना परिक्रमा ही है अगर वो हृदय में विद्यमान हो!
    सुन्दर कविता!

    उत्तर देंहटाएं