शुक्रवार, नवंबर 25

तेरे भीतर मेरे भीतर


तेरे भीतर मेरे भीतर

स्वर्ण कलश छिपा है सुंदर
तेरे भीतर मेरे भीतर,
गहरा-गहरा खोदें मिलकर
तेरे भीतर मेरे भीतर !

दिन भर इधर-उधर हम खटते
नींद में उसी शरण में जाते,
शक्तिपुंज वह सुख का सागर
फिर ताजे हो वापस आते !

होश जगे यदि उसको पाएँ
यह प्यास भी वही जगाए,
सुना बहुत है उसके बारे
वह ही अपनी लगन लगाये !

इस मन में हैं छिद्र हजारों
झोली भर-भर वह देता है,
श्वासें जो भीतर चलती हैं
उससे हैं यह दिल कहता है !

अग्नि के इस महापुन्ज में
देवशक्तियां छुपी हैं कण-कण,
बर्फीली चट्टानों में भी
मिट्टी के कण-कण में जीवन !

जो भी कलुष कटुता भर ली थी
उसके नाम की धारा धो दे,
जो अभाव भी भीतर काटे
अनुपम धन भर उसको खो दें !
 




10 टिप्‍पणियां:

  1. स्वर्ण कलश छिपा है सुंदर
    तेरे भीतर मेरे भीतर,
    गहरा-गहरा खोदें मिलकर
    तेरे भीतर मेरे भीतर !
    bahut sunder bhav ..

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुभानाल्लाह...........बेहतरीन......शानदार पोस्ट|

    उत्तर देंहटाएं
  3. अग्नि के इस महापुन्ज में
    देवशक्तियां छुपी हैं कण-कण,
    बर्फीली चट्टानों में भी
    मिट्टी के कण-कण में जीवन
    वाह बहुत खूब लिखा है आपने ....

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह अनीता जी जितनी तारीफ़ की जाये कम है…………बेहतरीन्।

    उत्तर देंहटाएं
  5. अनुपमा जी, अना जी, संगीता जी, इमरान जी, मनोज जी, सुषमा जी, वन्दना जी, अंजू जी, और पल्लवी जी आप सभी का बहुत बहुत आभार!

    उत्तर देंहटाएं