सोमवार, अगस्त 20

ईद मुबारक



ईद मुबारक 

एक ही अल्लाह
एक ही रब है,
एक खुदा है
एक में सब है !

अंत नहीं उसकी रहमत का
करें शुक्रिया हर बरकत का,
उसकी बन्दगी जो भी करता  
क्या कहना उसकी किस्मत का !

जग का रोग लगा बंदे को
नाम दवा कुछ और नहीं है,
वही है मंजिल वही है रस्ता
तेरे सिवा कोई ठौर नहीं है !

सारे जहां का जो है मालिक
छोटे से दिल में आ रहता,
एक राज है यही अनोखा
जाने जो वह सुख से सोता !

तू ही अव्वल तू ही आखिर
तू अजीम है तू ही वाहिद,
दे सबूर तू नूर जहां का
तू ही वाली इस दुनिया का !

अल कादिर तू है कबीर भी
तू हमीद और तू मजीद भी,
दाता है, तू रहीम, रहमान
अल खालिक तू मेहरबान !

तेरे कदमों में दम निकले
दिल में एक यही ख्वाहिश है,
तेरा नाम सदा दिल में हो
ईद पे तुझसे फरमाइश है !





 

10 टिप्‍पणियां:

  1. सब पर खुशियाँ बरसाए ईद .. ईद मुबारक!

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर रचना...
    खुशिया फैलाये ये ईद...
    यही कामना है...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक ही अल्लाह
    एक ही रब है,
    एक खुदा है
    एक में सब है !,....बहुत सुन्दर.. ईद मुबारक!

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छा सन्देश देती है .. सार्थक करती है त्यौहार को आपकी रचना ..
    ईद की बधाई ....

    उत्तर देंहटाएं
  5. सतीश जी, रीना जी, संध्या जी, शिखा जी, दिगम्बर जी, वन्दना जी, अमृता जी, माहेश्वरी जी, आप सभी का स्वागत व आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  6. देर से आने की माफ़ी.....शुक्रिया..... आपको और आपके परिवार को ईद मुबारक।

    उत्तर देंहटाएं