शनिवार, फ़रवरी 9

उसी घड़ी में कुछ घट जाता


उसी घड़ी में कुछ घट जाता 



वक्त का दरिया बहता जाता
यूँ लगता कुछ कहता जाता !

कल का सूरज कहाँ खो गया
आयेगा जो किधर से आये,
अभी अभी था अभी हुआ मृत
किसी अतल में गुमता जाता !

दूर सितारों से गर देखें
धरा गेंद सी डोल रही है,
एक आवरण में लिपटी सी
भेद किसी के खोल रही है !

सब कुछ पल में थिर हो जैसे
समय की रेखायें मिट जाये,
एक सनातन सृष्टि मिलती
क्षण भर को गतियाँ थम जाएँ !

उसी घड़ी में कुछ घट जाता
वक्त का दरिया रुक मुस्काता !



6 टिप्‍पणियां:

  1. सब कुछ पल में थिर हो जैसे
    समय की रेखायें मिट जाये,
    एक सनातन सृष्टि मिलती
    क्षण भर को गतियाँ थम जाएँ !

    बस थमी ही रहें उसके बाद.....
    बहुत सुन्दर...!

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक पल में क्या से क्या हो जाता है, जो पास है वह खो जाता है, जो पास नहीं वह मिल जाता है... गहन भाव

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक पल बदलता है सृष्टि .....बहुत सुन्दर।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आप सभी का स्वागत व आभार !

    उत्तर देंहटाएं