गुरुवार, मार्च 14

पांखुरी-पांखुरी मन खिलता है


पांखुरी-पांखुरी मन खिलता है


एक निर्झरी सी भावों की
जाने कहाँ से फूटी भीतर,
हटा पत्थरों की सीमा को
उमड़े ज्यों जलधार निरंतर !

जाने कहाँ छिपा रखा था
पाहन सा दिल भारी तो था,
जाने किसकी करे प्रतीक्षा
आखिर एक पुजारी तो था !

आज उमड़ ही आया अभिनव
इक सैलाब विमल अविरल सा
डूबे जिसमें संशय सारे
ज्यों संगम का तट निर्मल सा !

मीलों तक अब बिछा मोद है
सहज हुआ हर पल मिलता है,
जैसे नभ में तिरते पंछी
पांखुरी-पांखुरी मन खिलता है !

एक ही जीवन, एक ऊर्जा
विष भी वही, वही है अमृत,
मिल जाती पगडंडी सच की
नहीं सुहाए जिसको अनृत !


23 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवारीय चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति ..

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर भावों से सजी सुन्दर रचना ...
    सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुंदर रचना। विरोधाभाषों के समुच्चय में जीवन के प्रवाह को शब्द देती कविता।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. वृजेश जी, आपने सही कहा है जीवन धारा विरोधों के बीच ही बहती है..आभार !

      हटाएं
  5. सुंदर भावाभिव्यक्ति.......
    साभार......

    उत्तर देंहटाएं
  6. मीलों तक अब बिछा मोद है
    सहज हुआ हर पल मिलता है,
    जैसे नभ में तिरते पंछी
    पांखुरी-पांखुरी मन खिलता ..ati sundar....

    उत्तर देंहटाएं
  7. जाने कहाँ छिपा रखा था
    पाहन सा दिल भारी तो था,
    जाने किसकी करे प्रतीक्षा
    आखिर एक पुजारी तो था !

    मंत्र-मुग्ध करती सुकोमल रचना......

    उत्तर देंहटाएं
  8. वीरू भाई, अदिति जी, शिवनाथ जी आप सभी का स्वागत व आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  9. एक ही जीवन, एक ऊर्जा
    विष भी वही, वही है अमृत,
    मिल जाती पगडंडी सच की
    नहीं सुहाए जिसको अनृत !

    अनुपम प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  10. प्रतिभा जी व रचना जी, स्वागत व आभार!

    उत्तर देंहटाएं