गुरुवार, मार्च 21

श्याम रंग में भीगा अंतर



श्याम रंग में भीगा अंतर


रंग डाला किस रंग में तूने
कान्हा रंग रसिया है मन का,
राधा रंगी थी मीरा जिसमें
हुआ सुवासित कण-कण तन का !

श्याम रंग में भीगा अंतर
भीगी मन की धानी चूनर,
कोरा जिसको कर डाला था
विरह नीर में डुबो डुबोकर !

जन्मों से से जो सूखा सा था
जैसे कोई मरुथल बंजर,
कैसे हरा-भरा खिलता है
श्याम रंग में रंग के अंतर !

एक डगर थी सूनी जिस पर
पनघट नजर नहीं आता था,
काँटों में उलझा था दामन
श्यामल रंग से न नाता था !

भर पिचकारी तन पे मारी
सतरंगी सी पड़ी फुहार,
शीतल पोर पोर हो झूमा
फगुनाई की बही बयार !

14 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर फगुनाई बयार ....

    उत्तर देंहटाएं
  2. श्याम रंग कई तरह से विद्रोह का प्रतीक भी है। विद्रोह आभिजात्य मान्यताओं का, गौर वर्ण का। फगुनाई की बयार का आनंद इस विद्रोह में भी है।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. श्याम रंग तो सतरंगी है..सही कहा है आपने उनमें से एक रंग विद्रोह का है..आभार !

      हटाएं
  3. बहुत खूब ......होली की अग्रिम शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. इमरान, आपको भी रंगों का उत्सव मुबारक हो..

      हटाएं
  4. जन्मों से से जो सूखा सा था
    जैसे कोई मरुथल बंजर,
    कैसे हरा-भरा खिलता है
    श्याम रंग में रंग के अंतर !
    श्याम रंग में रंग गया जीवन...सुन्दर रचना... आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  5. श्याम रंग तो सब पे चढ़ गया ,गोरी पर भारी पड़ गया - बेहतरीन रचना .
    latest post भक्तों की अभिलाषा
    latest postअनुभूति : सद्वुद्धि और सद्भावना का प्रसार

    उत्तर देंहटाएं
  6. श्याम रंग में रंगी चुनरिया ,अब रंग दूजो भावे न ,

    जिन नैनं में श्याम बसें हैं ,और दूसरो आवे न .

    प्रेम का सात्विक ईश्वरीय प्रेम का रंग पक्का होता है .फाग मुबारक .

    उत्तर देंहटाएं
  7. फगुनाई बयार के साथ रंगों के छींटे-मुबारक हों अनिता जी !

    उत्तर देंहटाएं