शनिवार, मार्च 23

एक बूंद मानव का देय



एक बूंद मानव का देय


रंगों की बौछार हो रही
पल-पल इस सुंदर सृष्टि में,
लाखों-लाखों रंग छिपे हैं
नहीं समाते जो दृष्टि में !  

सजा मंच है इक अनंत का
प्रकृति नटी दिखाती खेल,
जैसे कोई बाजीगर हो
क्षण-क्षण घटे तत्व का मेल !

अनल दमकता, रक्तिम लपटें
स्वर्णिम आभा, हँसीं दिशाएँ,
सतरंगी उर्मियाँ रवि की
कण-कण वसुधा का रंग जाएँ !

धरा गंध का कोष लुटाती
बहे सुवासित पवन पुष्प छू,
ध्वनियाँ कैसी मधुरिम गूंजें
खग कूजित मुखरित नभ भू !

है अनंत, अनंत का सब कुछ
एक बूंद मानव का देय,
उतना ही रिसता जब उससे
मिल जाता जीवन में श्रेय !

11 टिप्‍पणियां:

  1. अनल दमकता, रक्तिम लपटें
    स्वर्णिम आभा, हँसीं दिशाएँ,
    सतरंगी उर्मियाँ रवि की
    कण-कण वसुधा का रंग जाएँ ! -बहुत सुन्दर भाव


    latest post भक्तों की अभिलाषा
    latest postअनुभूति : सद्वुद्धि और सद्भावना का प्रसार

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाकई बहुत ही सुन्दर रचना ... बड़े ही प्यारे शब्द बुने हैं आपने .. और तह में गूढ़ भी ...
    होली की अग्रिम सादर शुभकामनाएं आपको !! :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. सजा मंच है इक अनंत का
    प्रकृति नटी दिखाती खेल,
    जैसे कोई बाजीगर हो
    क्षण-क्षण घटे तत्व का मेल ...
    ये जीवक इस प्राकृति का खेल ही तो है ... जिसका रहस्य जानना आसान नहीं होता ...

    उत्तर देंहटाएं

  4. कल दिनांक25/03/2013 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपकी प्रतिक्रिया का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर और सार्थक अभिव्यक्ति...होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  6. कालीपद जी, संगीता जी, इमरान, अनु जी, कैलाश जी, दिगम्बर जी व मधुरेश जी आप सभी का स्वागत व आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर ताना बाना शब्दों का ...भावों का ...सुवासित सी रचना ...

    उत्तर देंहटाएं