मंगलवार, मार्च 5

मन बहता हुआ इक धारा था जब


मन बहता हुआ इक धारा था जब


डोलने लगे थे पात पीपल के
जरा नजर भर के निहारा था जब,
तरल हो गया था आलम सारा
निःशब्द होकर उसे पुकारा था जब !

है भी जो, नहीं भी, नजर आया था
दूर सागर का किनारा था जब,
झील का चाँद किसी की खबर लाया
पार उतरने को शिकारा था जब !

मिलीं ढेर नसीहतें, संग उसके
दिल को बस यही न गवारा था जब,
बहा ले गया गम, खुशियाँ सारी
मन बहता हुआ इक धारा था जब ! 

11 टिप्‍पणियां:

  1. गहन और बेहद खूबसूरत भाव ....
    बहुत सुंदर रचना अनीता जी ....

    उत्तर देंहटाएं
  2. हाँ, निःशब्द की पुकार और उसी की आवाज में ऐसी क्र गुजरने की शक्ति है। निःशब्द बिना बोले ही सब कुछ बोलता है फिर तो पत्ता क्या चीज है यह ब्रह्माण्ड भी डोलता है ...... बहुत ही प्यारी और सार गर्भित रचना आभार इसकी प्रस्तुति के लिये…

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत गहन भावपूर्ण रचना...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी इस उत्कृष्ट पोस्ट की चर्चा बुधवार (06-02-13) के चर्चा मंच पर भी है | जरूर पधारें |
    सूचनार्थ |

    उत्तर देंहटाएं
  5. झील का चाँद किसी की खबर लाया
    पार उतरने को शिकारा था जब !

    बहुत खूब,,, सुन्दर अहसासों से भरी
    आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  6. तरल हो गया था आलम सारा
    निःशब्द होकर उसे पुकारा था जब !.... बेहद खूबसूरत पंक्तियाँ ...एक बहुत भावपूर्ण कविता!

    उत्तर देंहटाएं
  7. खूबसूरत भावनात्मक प्रस्तुति!
    latest post होली

    उत्तर देंहटाएं
  8. उदासी का मर्म लिए है रचना गहरी वेदना से संसिक्त है प्रेम से सराबोर ,हाँ वायुवीय प्रेम से ....

    उत्तर देंहटाएं