मंगलवार, मार्च 31

लौट-लौट आती है प्रतिध्वनि

लौट-लौट आती है प्रतिध्वनि


हर पुकार सुनी जाती है
लौट-लौट आती है प्रतिध्वनि
हर मनुहार चुनी जाती है !

यूँ ही तो नहीं गगन सज रहा
तारों से रात्रि मंडित है,
नव रंगों से उषा निखरती
धरा पादपों से सज्जित है !

रोज बहार खिली आती है
स्वागत करने उस प्रियतम का
बन उपहार चली आती है !

मेघ उमड़ते अमृत जल से
करने धरती का अभिनन्दन,
शस्य श्यामला धरा विहंसती
पुष्प कर रहे जैसे वन्दन !

नित इक धार बही आती है
दे जाती संदेशे उसके
कई आकार धरे जाती है !



8 टिप्‍पणियां:

  1. नित इक धार बही आती है
    दे जाती संदेशे उसके
    कई आकार धरे जाती है !
    ...बहुत सुन्दर और गहन प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  2. कविता की आत्मा भी मनोरम और और उसकी संरचना भी. अच्छा लग पढ़कर.

    उत्तर देंहटाएं
  3. Nice Article sir, Keep Going on... I am really impressed by read this. Thanks for sharing with us. Government Jobs.

    उत्तर देंहटाएं
  4. भावपूर्ण बहुत सुन्दर और गहन प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  5. महेश्वरी जी, देवेन्द्र जी, प्रतिभा जी, कैलाश जी, निहार जी, ओंकार जी स्वागत व आभार

    उत्तर देंहटाएं