बुधवार, फ़रवरी 21

फागुन झोली भरे आ रहा




फागुन झोली भरे आ रहा


सुनो ! गान पंछी मिल गाते
मदिर पवन डोला करती है,
फागुन झोली भरे आ रहा
कुदरत खिल इंगित करती है !

सुर्ख पलाश गुलाबी कंचन
बौराये से आम्र कुञ्ज हैं,
कलरव निशदिन गूँजा करता
फूलों पर तितली के दल हैं !

टूटा मौन शिशिर का जैसे
एक रागिनी सी हर उर में,
मदमाता मौसम छाया है
सुरभि उड़ी सी भू अम्बर में !

नव ऊर्जित भू कण-कण दमके
हलचल, कम्पन हुआ गगन में,
पवन चले फगुनाई सस्वर
मधुरनाद गुंजित तन-मन में !

भीनी-भीनी गंध नशीली
नासापुट में महक भर रही,
रंगबिरंगे कुसुमों से नित
वसुंधरा नित राग रच रही !


11 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 22.02.2018 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2889 में दिया जाएगा

    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत खूब !मंगलकामनाएं आपको

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत ही सुंदर कविता...फूलों पर तितली के दल हैं...

    जवाब देंहटाएं
  4. स्वागत व आभार किरमानी जी !

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत ही सुन्दर कविता प्रस्तुत की।
    Inspirational information in hindi

    जवाब देंहटाएं
  6. फागुन की रूत छा गयी वातावरण में जैसे ...
    शब्दों का जाल महक ले आया मौसम में ...

    जवाब देंहटाएं
  7. क्या खूबसूरत अंदाज़ है. मन को उभरानेवाली एक दिलकश रचना

    जवाब देंहटाएं